मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शासनकाल में अपराधियों का राज्य बनता जा रहा है। राज्य में बेरोजगारी के बढ़ रहे स्तर के चलते युवा अपराध के रास्ते पर चलने को मजबूर हो रहे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर रहे हैं। लेकिन युवाओं के भविष्य के लिए जरूरी रोजगार के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे।

बेरोजगार युवाओं ने योगी सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर कर कई बार प्रदर्शन किए हैं। ब्रेकिंग टुडे के पत्रकार मनीष पांडे ने एक वीडियो शेयर की है।

जिसमें राज्य के युवा सड़क पर बैठकर रोजगार मांग रहे हैं। इनमें से ज्यादातर महिलाएं हैं। जिनका कहना है कि योगी सरकार या तो भर्ती दो या अर्थी दो।

इस वीडियो को ट्वीट कर मनीष पांडेय ने लिखा है कि “भर्ती दो या अर्थी दो ” ऐसे नारे लगाने पड़ रहे है बेरोजगारो को ।

अगर इनकी मांगे जायज नहीं है तो कम से कम इन्हें समझा के घर तो भेज ही सकते है और जायज है तो मान क्यों नहीं लेते। पता नहीं क्यों आंखे मूंदे बैठे है अफसर और योगी जी की बेइज्जती करवा रहे है।

सरकार के खिलाफ रोजगार मांग रहे इन युवाओं का कहना है कि योगी जी उनके साथ न्याय करें।

बताया जा रहा है कि यह युवा बीते 35 दिनों से बेसिक शिक्षा निदेशालय के सामने धरना दे रहे हैं। इन्होंने देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और राज्यपाल के नाम पर पत्र लिखकर मृत्यु की मांग भी की है।

दरअसल यह युवा 69000 शिक्षक भर्ती में त्रुटियों की वजह से छंटने के बाद आंदोलन कर रहे हैं।

युवाओं का कहना है कि अब तक उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई है जिसके चलते उन्होंने राष्ट्रपति से इच्छा मृत्यु की मांग की है अभ्यर्थियों का कहना है कि हम लोग मानसिक, शारीरिक और आर्थिक रूप से टूट चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 + 5 =