भाजपा शासित उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के इंदिरापुरम पुलिस द्वारा एटीएम से कैश चुराने वाले गिरोह के कुछ आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

जिसमें नोएडा पुलिस की शर्मनाक करतूत का खुलासा हुआ है। पूछताछ में आरोपियों ने गाजियाबाद पुलिस को बताया कि 3 महीने पहले नोएडा पुलिस ने 20 लाख रुपए और एक क्रेटा कार लेकर उन्हें छोड़ दिया था।

आरोपियों द्वारा गाजियाबाद पुलिस को भी यह कहा जा रहा था कि आप भी नोएडा पुलिस की तरह जैसे लेकर हमें छोड़ दें।

आरोपियों ने बताया कि वह बीते काफी समय से दिल्ली और एनसीआर समेत कई प्रदेशों में एटीएम से कैसे चुरा रहे हैं। 3 महीने पहले नोएडा पुलिस ने जब उन्हें पकड़ा था। तो एक डील के तहत उन्हें छोड़ दिया गया।

इस मामले में पुलिस अधिकारियों उच्च अधिकारियों से संपर्क कर पूरे मामले की जानकारी दी है।

NDTV के पत्रकार रवीश कुमार ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर एक पोस्ट शेयर करते हुए नोएडा पुलिस पर तंज कसा है।

उन्होंने लिखा है कि एक चोर है जो एटीएम काटने की मेहनत करता है। एक पुलिस है जो उस चोर की जेब काट लेती है। पुलिस को पैसे देकर चोर फिर चोरी करने चला जाता है।

अब चोर को गाजियाबाद ज़िले की पुलिस पकड़ लेती है तो चोर कहता है कि नोएडा की पुलिस के कुछ लोगों ने बीस लाख लेकर छोड़ दिया था तो आप भी कुछ लेकर छोड़ दो। चोर के इस सच से पुलिस का झूठ पकड़ा गया।

जिन लोगों ने चोर से बीस लाख लिए वो न जाने कितने ऐसे बीस लाख होते होंगे। उनके पैसे के बारे में सोच कर मज़ा आ रहा है।

बीस लाख लेने वाले पुलिसकर्मियों की सोशल मीडिया प्रोफ़ाइल देखने का मन कर रहा है। ये लोग भारत को लेकर क्या लिखते हैं, किस तरह की बातें लिखते हैं। और पोस्ट करने के बाद जब पैसा वसूलने निकलते हैं।

तो भारत माता के प्रति सम्मान और प्यार का ख़्याल आता होगा या पैसा लेकर कढ़ी चावल खाने चले जाते होंगे? मुर्ग़ा भात नहीं लिखा क्योंकि भावनाएँ आहत हो जाती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen − six =