एक तरफ जहां दिल्ली में किसान अपने अधिकारों की लड़ाई लड़ रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ देश के बेरोजगार युवा भी मोदी सरकार से रोजगार मांगने के लिए सड़क पर उतर रहे हैं।

बीते कुछ दिनों से देश में बेरोजगारी को लेकर युवाओं ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

सोशल मीडिया पर भी ‘मोदी रोजगार दो’ हैशटैग ट्रेंड हो रहा है। जिसमें 50 लाख से ज्यादा ट्वीट किए गए हैं। देश में बढ़ रही बेरोजगारी के मुद्दे पर कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेर रहे हैं।

दरअसल पीएम मोदी ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव में युवाओं को ढाई करोड़ रोजगार देने का वादा किया था। लेकिन पीएम मोदी ने देश के विकास और तरक्की के नाम पर सरकारी संस्थानों के निजीकरण को बढ़ावा दिया है।

इसी बीच खबर सामने आई है कि उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में रोजगार की मांग कर रहे आक्रोशित युवाओं को उत्तर प्रदेश पुलिस ने खदेड़ा है। इस दौरान पुलिस द्वारा 7 छात्राओं सहित 22 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

News24 ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो शेयर की है। जिसमें देखा जा सकता है कि पुलिस और युवाओं को पकड़ पकड़ कर धरना स्थल से हटा रही है और पुलिस की गाड़ी में बिठा कर हिरासत में ले रही है।

युवाओं को विरोध प्रदर्शन करने से रोकने के लिए भारी तादाद में पुलिस वहां पर उपस्थित है।

वहीं इसी वीडियो को शेयर करते हुए पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने लिखा- “जब छात्रों पर लाठियाँ चलने लगें,
समझ लेना सत्ता के दिन लद गए।

इलाहाबाद जिंदा शहर है, हर लाठी का जवाब सूद समेत लौटा देगा आपको योगी जी।”

आपको बता दें कि कोरोना महामारी के बाद भारत में बेरोजगारी का स्तर काफी बढ़ चुका है। आईएलओ के आंकड़ों के मुताबिक विश्व में औसत रोजगार की दर जहां 57 फीसदी है। वहीं भारत की औसत रोजगार दर 47 फीसदी है। जबकि इस मामले में भारत के पड़ोसी मुल्क भी आगे चल रहे हैं।

सीएमआईआई की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि साल 2020 में अप्रैल के महीने में लगभग डेढ़ करोड़ लोगों की नौकरियां चली गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

8 + 8 =