भाजपा शासित उत्तर प्रदेश में सरकार द्वारा शुरू किए गए मिशन शक्ति का प्रचार-प्रसार बढ़ चढ़कर किया जा रहा है। इसके विपरीत राज्य में महिलाओं के साथ रेप और हत्या की घटनाएं हर दिन घट रही हैं।

बीते साल हुए हाथरस गैंग रेप कांड के बाद हाल ही में उत्तर प्रदेश के बदायूं में रूह को कंपाने वाली ऐसी ही घटना घटी है। जहाँ मंदिर में महिला के साथ गैंगरेप कर हत्या कर दी गई।

प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस को सौंपी गई है। लेकिन जब पुलिस ही खुद हैवान बन जाए तो महिलाएं कैसे सुरक्षित रह सकती हैं।

उत्तर प्रदेश के गोंडा से इससे जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आई है। जहां एक महिला सिपाही ने पुलिस वाले पर रेप के गंभीर आरोप लगाए हैं।

महिला सिपाही ने बताया कि 10 जनवरी को अंकित राय नाम के पुलिस कांस्टेबल ने जबरदस्ती मेरे साथ रेप किया है। महिला का कहना है कि अंकित राय उसे कमरा दिखाने के लिए लेकर गया था। जहाँ ले जाकर उसने जबरन मुझे कमरे में घसीट लिया और मेरे साथ रेप किया।

महिला सिपाही ने बताया है कि जब मैंने खुद को बचाने की कोशिश की तो पुलिस कांस्टेबल अंकित राय ने मुझे जान से मारने की धमकी भी दी।

इसके बाद मैंने अपने घर वालों को इस घटना की जानकारी दी और अंकित राय के खिलाफ एसएसपी ऑफिस और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को शिकायत की है।

महिला सिपाही ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा है कि हम इतने दिनों से परेशान घूम रहे हैं। लेकिन इसके बावजूद भी आरोपी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। मैं चाहती हूँ कि आरोपी के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो।

मैंने एसपी से मिलकर भी उन्हें पूरे मामले की जानकारी देते हुए शिकायत की है। उन्होंने कहा है कि आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी लेकिन अब तक ऐसा नहीं हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 2 =