भाजपा शासित उत्तर प्रदेश में रेप और हत्या की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही है। हर दिन यूपी के किसी ना किसी शहर से महिला अपराध से जुड़ी खबरें सामने आ रही है।

जो कि योगी सरकार के उस झूठे दावे पर कालिख पोतती हैं। जिसमें महिला सुरक्षा की बात की जाती है। योगी राज में छोटी बच्चियों से लेकर बूढी महिलाएं, सब असुरक्षित हैं।

ताजा मामला मथुरा के जमुनापार इलाके के डेहरूआ गांव से। जहाँ पर 8 साल की मासूम बच्ची से रेप और हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। जिसके बाद पूरे इलाके में हड़कंप सा मच गया है।

बताया जाता है कि घटना की सूचना मिलते ही भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचा। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। जिसके बाद पुलिस जांच में जुट गई है।

दरअसल 8 साल की नाबालिग बच्ची सोमवार शाम से ही घर के बाहर से अचानक गायब हो गई थी। परिवार द्वारा बच्ची को काफी देर तक तलाश किया गया। लेकिन बच्ची कहीं नहीं मिली। फिर इसके बाद बच्ची की गुमशुदगी की सूचना पुलिस को दी गई।

बच्ची का शव खेत में मिलने के बाद से ही लोगों में जबरदस्त आक्रोश है। यहाँ तक कि इस मामले को लेकर पुलिस और अब गांव वालों के बीच झड़प होने की बात भी सामने आई है।

एसएसपी डॉक्टर गौरव ग्रोवर ने इस मामले की जानकारी सांझा की है। उन्होंने बताया है कि पुलिस सभी पहलुओं पर गहराई से छानबीन कर रही है। मृतक बच्ची के परिवार वालों ने जिस युवक पर रेप और हत्या के आरोप लगाए हैं। उसकी तलाश पुलिस द्वारा की जा रही है।

पुलिस इस मामले में आरोपी की तलाश में जगह-जगह छापे मार रही है। लेकिन अब तक उसका कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। गाँव वालों द्वारा आशंका जताई जा रही है कि बच्ची के साथ चार लोगों द्वारा गैंगरेप किया गया है।

वहीं इस मामले पर पत्रकार रोहिणी सिंह ने लिखा- “शर्मनाक! मथुरा के ढेरुआ गाँव में 9 साल की बच्ची की लाश मिली, बदन पर कपड़े नहीं थे और पास में शराब की बोतल और नमकीन के पाउच रखे थे। नशे में धुत होकर पहले रेप और फिर हत्या की गयी। अगर मीडिया कुछ दिन ‘सुशांत’ केस की जाँच CBI पर छोड़ यूपी की तरफ देखे तो शायद ‘सुशासन’ का नकाब हट जाए।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eight − four =