अपने एनकाउंटर्स को लेकर सवालों में घिरी रहने वाली उत्तर प्रदेश पुलिस एक बार फिर झांसी एनकाउंटर को लेकर कटघरे में आ गई है। एनकाउंटर में मारे गए पुष्पेंद्र यादव के परिजनों ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए इंसाफ की गुहार लगाई है।

पुष्पेंद्र की पत्नी शिवांगी ने रोते-बिलखते आरोप लगाते हुए कहा कि उसके पति को पुलिस ने लेन-देन के कारण एनकाउंटर के नाम पर जानबूझकर मार डाला। पत्नी ने कहा कि उसकी शादी को तीन महीने हो गए, लेकिन उसे नहीं पता कि उसके पति पर किसी भी प्रकार का अपराधिक मामला दर्ज हो।

योगी सरकार UP को एनकाउंटर के नाम पर दलितों और अल्पसंख्यकों की कत्लगाह बना रही हैः सपा नेता

पुष्पेंद्र की नवविवाहिता पत्नी ने कहा कि घटना के दिन 8 बजे फोन पर उसकी मोबाइल पर बात हुई थी कि वह आ रहे है। इसके बाद वह न तो खुद आये है और न ही उनका फोन आया। कुछ आया तो सिर्फ़ उनकी लाश।

बता दें कि शनिवार की रात पुष्पेंद्र पुलिस मुठभेड़ में मारा गया। पुलिस का कहना है कि पुष्पेंद्र पर पुलिस ने गोली जवाबी कार्रवाई में चलाई थी। हालांकि सूत्रों की मानें तो पुलिस ने पुष्पेंद्र को इसलिए गोली मारी क्योंकि उसने ड्यूटी पर तैनात इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह चौहान को वसूली देने से इनकार कर दिया था।

बताया जा रहा है कि पुष्पेंद्र को मारने के बाद पुलिस ने मामले को एनकाउंटर का रूप दे दिया। इस मामले दिलचस्प बात तो ये है कि इस मामले में झांसी पुलिस अपनी ही थ्योरी में फंसती नज़र आ रही है। दरअसल, जिस बाइक से पुष्पेंद्र को भागते बताया गया उस बाइक मालिक भी फरार बताया गया था। जबकि बाइक मालिक दिल्ली मेट्रो में ड्यूटी कर रहे सीआईएसएफ जवान रविंद्र की निकली। जो इस समय ड्यूटी पर है।

जस्टिस बेदी कमेटी: मोदी के CM रहते ‘एनकाउंटर’ नहीं मुस्लिमों का ‘क़त्ल’ हो रहा था

राज्यसभा सांसद डॉ. चंद्रपाल सिंह यादव ने मुठभेड़ पर सवाल उठाते हुए पुलिस पर हत्या की रिपोर्ट दर्ज किए जाने की मांग की है। वहीं, सपा कार्यकर्ताओं व परिजनों ने पुलिस पर कार्रवाई की मांग को लेकर मेडिकल कॉलेज के सामने शव रखकर प्रदर्शन भी किया।

परिजनों का कहना है कि जब तक इंसाफ़ नहीं मिलता वो पुष्पेंद्र का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। वहीं मामले को बढ़ता देख ज़िलाधिकारी ने इस मामले में मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश दे दिए हैं।