उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय लोक दल पार्टी किसानों के समर्थन में गांव गांव जाकर महापंचायत का आयोजन कर रही है। बीते दिनों शामली में योगी सरकार की अनुमति के बिना पार्टी ने किसानों की महापंचायत की थी।

जहां दूर-दूर से लोग एकजुट हुए थे। इस महापंचायत के चलते इलाके में जिलाधिकारी द्वारा धारा 144 लगाई गई थी।

अब खबर सामने आ रही है कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने बिना अनुमति के सभा का आयोजन किए जाने के मामले में राष्ट्रीय लोक दल के उपाध्यक्ष और पूर्व सांसद जयंत चौधरी सहित 5000 अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज किया है।

रालोद नेता पर यह मामला गोंडा में एक सभा में भारी भीड़ उठने के चलते किया गया है। पुलिस की तरफ से कहा गया है कि रालोद नेता पर यह मुकदमा महामारी अधिनियम के तहत दर्ज किया गया है।

दरअसल मंगलवार को जयंत चौधरी द्वारा आयोजित की गई सभा में कार्यकर्ताओं की भारी भीड़ इकट्ठी हुई थी। पुलिस ने इस मामले का संज्ञान लेते हुए कोरोना नियमों का उल्लंघन करने के तहत मामला दर्ज किया है।

इस मामले में पुलिस क्षेत्राधिकारी मोहसिन खान ने बताया है कि रालोद नेता द्वारा बुलाई गई सभा में दूरदराज से कार्यकर्ता इकट्ठे हुए थे। जिसके चलते उनपर ये कार्रवाई की गए है।

इस मामले में रालोद नेता ने भाजपा पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “बाबा बता दें कब और कहाँ गिरफ़्तारी देनी है!”

आपको बता दें कि गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में घटे घटनाक्रम के बाद राष्ट्रीय लोक दल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत से गाजीपुर बॉर्डर पर मुलाकात करने पहुंचे थे।

जिसके बाद से ही वह किसान प्रदर्शनकारियों के समर्थन में उत्तर प्रदेश में कई जगहों पर सभाएं और महापंचायतों का आयोजन कर रहे हैं। जिसमें वे भाजपा को घेर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 + 6 =