यूपी के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि इस समय पूरे देश और उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर आ गई है।

हर रोज एक लाख से ज्यादा लोग कोरोना के शिकार हो रहे हैं लेकिन सरकार को इससे कोई लेना देना नहीं है। केंद्र और राज्य सरकार को आम आदमी की जान की परवाह नहीं है, बल्कि सरकार पूरी तरह से चुनाव प्रचार में व्यस्त है।

पूर्व सीएम ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर शुरु हो जाने के बावजूद सरकारों के पास वैक्सीन नहीं है तो दूसरी ओर रोजगार भी समाप्त हो चुके हैं लेकिन दुख की बात है कि सरकार का इस ओर कोई ध्यान नहीं है।

यूपी चुनाव की चर्चा करते हुए अखिलेश ने कहा कि इस बार का विधानसभा चुनाव सिर्फ राज्य का चुनाव नहीं बल्कि देश का चुनाव होगा।

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल का उदाहरण आपके सामने है।भाजपा चुनाव में हर तरह की हदों को पार कर चुनाव लड़ती है। भाजपा का मुकाबला करने के लिए समाजवादी पार्टी ने हर स्तर पर संघर्ष किया है।

अखिलेश ने कहा कि हम देश की जनता से अपील करते हैं कि वो भाजपा को हराए। बंगाल में भी भाजपा हारेगी और एक बार फिर ममता बनर्जी सरकार बनाएंगी। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी जैसा लोकप्रिय नेता पश्चिम बंगाल में दूसरा कोई नेता नहीं है।

अखिलेश ने कहा कि देश और प्रदेश के लोग आज तकलीफों में हैं। कोरोना ने ऐसे चक्रव्यूह में हमें फंसा दिया है कि हम यह सोच ही नहीं पा रहे हैं कि हम इससे बाहर कैसे निकले ! गरीब आदमी इस दौर में रोटी और रोजगार की तकलीफों से जूझ रहा है।

पीएम मोदी और सीएम योगी पर निशाना साधते हुए अखिलेश ने कहा कि आपने जिन्हें इस संकट के दौर से निकालने की जिम्मेदारी सौंपी थी, वह सब कुछ छोड़कर झूठ बोलने के लिए स्टार प्रचारक बन कर चुनावी राज्यों में निकल पड़े हैं।

यूपी के अस्पतालों में दवाईयां नहीं हैं, टेस्ट नहीं हो पा रहे हैं।अस्पतालों में बेड नहीं है। वैक्सीन लगने के बाद भी लोग बीमार हो जा रहे हैं। आम जनता का इलाज कैसे होगा, ये किसी को पता नहीं है लेकिन सरकार अपनी वाहवाही में जुटी हुई है।

वहीं शामली की घटना का जिक्र करते हुए अखिलेश ने कहा कि कोरोना की जगह कुत्ते काटने का इंजेक्शन लगा दिया जाता है। इससे बुरा क्या हो सकता है? सरकार है कि बस चुनाव प्रचार में लगी हुई है. कारखाने, उद्योेग, धंधे बंद हो रहे हैं. सरकार के पास इसका कोई जवाब नहीं है।

अखिलेश ने उम्मीद जताई कि आने वाले विधानसभा चुनाव में जनता बदलाव के लिए वोट करेगी और पूर्ण बहुमत से समाजवादी पार्टी सरकार बनाएगी।

मालूम हो कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव पार्टी कार्यालय में मीडियाकर्मियों से रुबरु हो रहे थे। इस मौके पर अलग अलग दलों के कई बड़े नेताओं ने अखिलेश यादव के नेतृत्व में आस्था व्यक्त करते हुए समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

7 − three =