Ajju Hindustani
Ajju Hindustani

कोरोना को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश में एक तरफ मीडिया लगा हुआ था तो दूसरी तरफ बीजेपी समेत तमाम दक्षिणपंथी संगठन। कोरोना के नाम पर मुस्लिमों के खिलाफ नफरत फैलाने वाले ऐसे ही एक शख्स को सबक मिला है मगर अफसोस की इस बात को जाहिर करने के लिए वो अब इस दुनिया में नहीं हैं।

इसी मामले पर विस्तार से बताते हुए सत्येंद्र पीएस लिखते हैं-

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में हिन्दू युवा वाहिनी के जिलाध्यक्ष थे अजय श्रीवास्तव। यह योगी आदित्यनाथ का बनाया संगठन है। अजय को अज्जू हिंदुस्तानी के नाम से जाना जाता था।

इन्होंने घोषणा की थी कि जमाती पकड़वाने वाले को हिन्दू युवा वाहिनी 11,000 रुपये ईनाम देगी क्योंकि साजिश के तहत जमाती और रोहिंग्या कोरोना फैला रहे हैं। साथ ही इन्होंने यज्ञ भी कराए थे और इनको भरोसा था कि इससे कोरोना भाग जाएगा।

जमातियों ने देश में कोरोना फैला दिया, यह बाकायदा केंद्र सरकार द्वारा प्रचारित था, जिसे बड़े कायदे से अंजाम दिया गया था। मुसलमानों के खिलाफ घृणा इस कदर फैलाई गई कि भाजपा के बंगलौर के युवा सांसद ने निहायत बेहूदा ट्वीट किया।

तब्लीगी मामला और देशबन्दी के पहले सरकार ने कोरोना को मजाक में लिया। ढाई महीने में कम से कम 20 लाख लोग भारत आए जो सम्भावित कोरोना कूरियर थे। प्रधानमंत्री ने खुद ट्रम्प के स्वागत में जलसा कराया।

लेकिन आरएसएस भाजपा को बीमारी तक को भी साम्प्रदायिक रंग दे देने और दंगा करा देने में महारत है। उसने किया। आखिरकार भारत का उदार कहा जाने वाला कथित तबका भी कहने लगा कि साले जाहिल तब्लीगीयों ने कोरोना फैला दिया।

यह घृणा इस हद तक फैली की संयुक्त अरब अमीरात का राजपरिवार भी इसमें कूद पड़ा और उसने विरोध जताया। फिर सरकार को सफाई देनी पड़ी। लेकिन नफरत इतनी फैल चुकी थी कि खाड़ी देशों में रहने वालों पर बन आई, वो खदेड़े जा रहे हैं। ध्यान रहे कि विदेश में रहने वाले भारतीयों में 70% लोग खाड़ी देशों यानी मुस्लिम कंट्रीज में रोजी रोटी कमाते है।

मेरे पास आंकड़े नहीं हैं कि कोरोना संक्रमित कितने लोग हिन्दू हैं कितने मुस्लिम हैं। लेकिन यह करीब सभी लोगों ने सुना होगा कि “तब्लीगी ने कोरोना फैलाया। इंदौर में मुस्लिमों ने कोरोना फैलाया। तब्लीगी बिरयानी खाने को मांगते हैं। डॉक्टरों नर्सों को परेशान करते हैं। अश्लील इशारे करते हैं।”

बीमार पड़ने वालों के नाम सुनकर अब नहीं लगता कि कोरोना मुस्लिमो में ज्यादा फैला है। तमाम हिंदूवादी इसलिए भी खुश थे कि सरकार के मुताबिक यह हाई इन्फेक्टेबल डिजीज है और मीयां साफ हो जाएंगे, क्योंकि जमाती अपने समाज में खूब कोरोना फैला देंगे। लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है। भाजपा के हिन्दू नेता कोरोना लेकर अस्पताल जा रहे हैं।

अज्जू हिंदुस्तानी की कोरोना से मौत हो गई। कुछ दिन बाद उनकी बहन मर गई। उसके बाद उनकी माँ कोरोना से मर गई। परिवार के और लोग भी कोरोना से संक्रमित है। अज्जू अच्छे इंसान थे, मेरे एक मित्र के मित्र थे। उनके दिमाग में मुस्लिमों को लेकर जहर जरूर भरा हुआ था।

कम से कम अब से मॉन लीजिए कि कोरोना बीमारी है। इसे कुछ सौ जमाती ही नहीं, हर रोज 5 फ्लाइट से चीन, 2 फ्लाइट से इटली आने जाने वाले लेकर आ रहे थे और वो हिन्दू थे। हालांकि भाजपा अब हिन्दू मुस्लिम दंगे का नया आइडिया सोच रही होगी और तब्लीगी आप भूल चुके होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here