देश में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शासनकाल में राज्य में किए गए कथित विकास के महिमामंडन में लगी हुई है।

भले ही वह विकास किसी और ही राज्य का क्यों ना हो।

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को लगभग 3,240 करोड रुपए की लागत से बनी परियोजनाओं का उद्घाटन किया है।

इसी बीच सोशल मीडिया पर भावनी बांध परियोजना के प्रचार के लिए भारतीय जनता पार्टी द्वारा एक तस्वीर शेयर की जा रही है। जिसमें एक डैम की फोटो नजर आ रही है।

इस तस्वीर के साथ यह लिखा गया है- बुंदेलखंड को सौगात भावनी बांध परियोजना।

इसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की फोटो लगाकर साथ में लिखा गया है कि सोच ईमानदार काम दमदार।

इसके साथ ही ये भी लिखा है कि ललितपुर की 3,800 हेक्टेयर भूमि होगी सिंचित। 20 गांव के 8,062 किसानों को मिलेगी सिंचाई की सुविधा।

लेकिन इस तस्वीर में लगाई गई डैम की यह फोटो तेलंगाना में महबूबनगर जिले और आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले की बॉर्डर पर कृष्णा नदी पर बने एक डैम की है। जिसका नाम श्रीशैलम डैम है।

इस मामले में पूर्व आईएएस अफसर सूर्य प्रताप सिंह ने योगी सरकार पर निशाना साधा है।

उन्होंने लिखा है कि “योगी जी, जब आपके पास विकास के नाम पर दिखाने के लिए कुछ नहीं तो अन्य राज्यों के विकास को अपना बता रहे हो।

तेलंगाना-आंध्रप्रदेश की सीमा, कृष्णा नदी पर बने श्रीशैलम बांध को योगी जी के पोस्टर में बुंदेलखंड के ललितपुर की भवानी बांध परियोजना दिखाया गया है। फिर पकड़े गए, गज़ब है।

 

आपको बता दें कि श्रीशैलम बांध को भावनी बांध परियोजना बताकर भारतीय जनता पार्टी योगी सरकार के गुड वर्क की मिसाल पेश करने की कोशिश में थी।

लेकिन पार्टी के झूठ का भंडाफोड़ होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सोशल मीडिया पर जमकर किरकिरी हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × 1 =