उत्तर प्रदेश के किसान कर्ज तले दबे होने से और फसल का उचित दाम नहीं मिलने से तो परेशान हैं ही। लेकिन, फिलहाल उससे भी ज्यादा परेशान वो छुट्टा घूम रहे आवारा पशुओं से हैं। ये छुट्टे आवारा पशु किसानों की लहलहाती फसल ‘चर’ जा रहे हैं। जिससे किसानों की सारी मेहनत पर पानी फिर जा रहा है। ये एक तरह से किसानों की फसल पर कुदाल चलाने जैसा है।

जरा सोचिए कि तब क्या हो जब आवारा सांड खेत से निकलकर किसी राजनैतिक दल की रैली में घुस आए? ऐसा ही वाकया यूपी में हुआ जहाँ एक रैली में आवारा सांड घुस आया। सांड के घुस जाने से रैली स्थल पर अफरा-तफरी का माहौल हो गया।

धमाकों के बाद श्रीलंका के राष्ट्रपति रक्षा सचिव से इस्तीफा मांगते हैं, मोदी पुलवामा के बाद वोट मांगते हैं

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक ऐसे ही आवारा सांड की फोटो अपने ट्वीटर पर शेयर करते हुए बीजेपी और सीएम योगी पर तीखा हमला किया है। हालाँकि अखिलेश ने इसका जिक्र नहीं किया है कि ये किस दल की रैली की फोटो है।

उन्होंने कहा है कि, “अगर योगी सरकार राजनीतिक कार्यक्रमों में सांड को घुसने से नहीं रोक पा रही है, तो गरीब किसानों का क्या हाल हो रहा होगा यह बस वही जानते होंगे। उन्होंने लिखा है, 21 महीनों में हमने एक्सप्रेसवे बनाया था, लेकिन पिछले 2 सालों में जनता 5 करोड़ आवारा पशुओं से परेशान हो गई है।

2017 में अखिलेश यादव की सरकार गई और बीजेपी की सरकार बनी। योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री बने। उन्होंने सीएम बनते ही यूपी के ज्यादातर बुचडखाने बंद करवा दिए। बुचडखाने बंद होने से लोग गाय के बछडों को खुले में छोड़ आते हैं। अब यही आवारा पशु खेतों को नष्ट कर रहे हैं। लेकिन योगी सरकार इसकी तरफ आंखें मुंदी बैठी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 − six =