बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने अपना घोषणा पत्र जारी किया। इस मौके पर देश की वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना को बिहार तक सीमित कर दिया।

जिस कोरोना की मार पूरा देश झेल रहा है, कोरोना के टीके का देश बेसब्री से इंतज़ार कर रहा है। लेकिन बीजेपी ने कोरोना के आने वाले टीके का ही अपनी राजनीति चमकाने के लिए राजनीतिकरण कर दिया।

निर्मला सीतारमण ने राजधानी पटना में बीजेपी का विजन डॉक्यूमेंट जारी करते हुए कहा कि,

“बिहार के लोगों को फ्री में कोरोना का टीका लगाया जायेगा।” यह सिर्फ बयान ही नहीं है बल्कि इस वादे को बीजेपी के विजन डॉक्यूमेंट में प्रमुखता से शामिल किया गया है। इसके साथ राज्य के युवाओं को 19 लाख नौकरी देने की बात की है।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा किए गए इस दावे के बाद भाजपा विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई है।

कई विपक्षी दलों का कहना है कि भाजपा बिहार में चुनाव प्रचार के दौरान कोरोना का टीका फ्री में लगाने की घोषणा कैसे कर सकती है। कोरोना का टीका देश का है, भाजपा का नहीं! भाजपा बीमारी के नाम पर राजनीति कर रही है।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट करके बीजेपी पर करारा हमला किया है।

उन्होंने कहा कि, “आज देश की सत्ताधारी भाजपा बिहार के अपने घोषणापत्र में कह रही है कि वो बिहार के लोगों के लिए कोरोना का टीका मुफ़्त लगवाएगी।

ऐसी घोषणा उप्र व अन्य राज्यों के लिए क्यों नहीं करी गयी। ऐसी अवसरवादी संकीर्ण राजनीति का जवाब उत्तर प्रदेश व देश की जनता आगामी चुनावों में भाजपा को देगी।”

आपको बता दें कि वित्त मंत्री मित्रा निर्मला सीतारमण का कहना है कि देश में कोरोनावायरस के 4 तरह के वैक्सीन बनाए गए हैं। जब इनका प्रोडक्शन बड़े स्तर पर हो जायेगा। तब बिहार के सभी लोगों को फ्री में वैक्सीन दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × four =