19 मई को सातवें और अंतिम चरण में पश्चिम बंगाल की नौ सीटों पर मतदान होना है। इस बीच राज्य में राजनीतिक हिंसा जारी है। मंगलवार को पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह की रैली थी। रैली दौरान TMC और BJP कार्यकर्ताओं के बीच जमकर हिंसा हुई।

नवजागरण के महत्वपूर्ण स्तंभ ईश्वरचंद्र विद्यासागर के नाम पर बने ‘ईश्वरचंद्र विद्यासागर कॉलेज’ में तोड़फोड़ की गई। साथ ही ईश्वर चंद्र विद्यासागर की एक मूर्ति को तोड़ दिया गया। विद्यासागर एक महान समाज सुधारक थे। उन्होंने बंगाली समाज से ब्राह्मणवाद मिटाने के लिए लंबी लड़ाई लड़ी थी।

इस मामले को लेकर बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। बीजेपी का कहना है कि टीएमसी समर्थक छात्रों ने तोड़फोड़ की। वहीं टीएमसी का कहना है कि पूरी हिंसा के लिए आरएसएस-बीजेपी जिम्मेदार है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और TMC प्रमुख ममता बनर्जी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर तस्वीर बदलकर ईश्वर चंद्र विद्यासागर की तस्वीर लगा ली है।

दंगाई गुजरात से बंगाल पहुंच गए और विद्यासागर की मूर्ति तोड़ी दी, आगे देखिए क्या-क्या होता हैः संजय

मंगलवार शाम को हुई हिंसा के मामले में बुधवार की सुबह बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेस कांफ्रेंस की और TMC तमाम आरोप लगाए।

अमित शाह के प्रेस कॉन्फ्रेंस के जवाब में टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन ने प्रेस कांफ्रेंस कर बीजेपी पर कई आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि बंगाल में हिंसा कराने के लिए बाहर से गुंडे लाए गए थे।