बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन की हार के बाद सबसे बड़े घटक दल आरजेडी की ओर से बुलाई गई विधायक दल की बैठक समाप्त हो गई है।

बैठक में आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव को विधायक दल का नेता चुना गया है।

पटना में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर हुई यह अति महत्वपूर्ण बैठक तेजस्वी यादव की अगुवाई में बुलाई गई थी। जिसमें राबड़ी देवी, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह, तेजप्रताप यादव समेत आरजेडी के सभी वरिष्ठ नेता मौजूद रहे।

इसके अलावा बैठक में वामपंथी दल और कांग्रेस के नवनिर्वाचित विधायक शामिल रहे। तेजस्वी ने सभी नवनिर्वाचित विधायकों को अभिवादन किया और उनका स्वागत किया।

बैठक ख़त्म होने के बाद विधायक दल के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि वह अपनी ज़िम्मेदारी को पूरी निष्ठा के साथ निभाएंगे। वह जनता के बीच रहकर उनका काम करेंगे।

उन्होंने शिक्षा-रोज़गार की स्थिति को लेकर कहा कि अगर सूबे में जनवरी तक शिक्षा-रोज़गार की स्थिति नहीं सुधरती तो वह आंदोलन करेंगे। तेजस्वी ने कहा कि हम रोने वाले नहीं, संघर्ष करने वाले लोग हैं।

वहीं आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने कहा कि जनादेश हमारे पक्ष में है। हमें छल बल से हराया गया। जनता ने जो हमें जो जिम्मेदारी दी है सदन से लेकर सड़क तक हम उसे पूरी निष्ठा के साथ निभाएंगे।

इस दौरान जब जगदानंद से कांग्रेस की कम सीटों पर टिप्पणी करने के लिए कहा गया तो उन्होंने सवाल को नज़रअंदाज़ कर दिया।

ग़ौरतलब है कि चुनाव में महागठबंधन तेजस्वी यादव के नेतृत्व में चुनाव मैदान में उतरी थी। तेजस्वी के नेतृत्व में पार्टी ने शानदार प्रदर्शन किया।

आरजेडी सूबे में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। उसे 243 सीटों वाली बिहार विधानसभा में 75 सीटें मिलीं और घटक दलों को मिलाकर उसने 110 सीटों पर जीत हासिल की। लेकिन पर्याप्त सीट नहीं आने के कारण महागठबंधन सूबे में सरकार नहीं बन सकी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × five =