मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ बीते 2 महीनों से किसानों द्वारा जमकर विरोध किया जा रहा है। पंजाब और हरियाणा के किसानों ने 26 नवंबर को दिल्ली कूच करने का एलान किया था। जिससे भाजपा की सरकार पूरी तरह बौखला गई है।

देश के अन्नदाताओं को रोकने के लिए पत्थर के बैरिकेड लगाए जा रहे है। इसके साथ हरियाणा सरकार उनपर वाटर कैनिन का इस्तेमाल किया जा रहा है।

हरियाणा के कई बॉर्डर्स और हाईवे पर भारी संख्या में पुलिसकर्मी और रैपिड एक्शन फोर्स को तैनात किया गया है। इसके साथ ही हरियाणा पुलिस स्थिति पर नजर रखने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल भी कर रही है।

आपको बता दें कि प्रदर्शनकारी किसानों ने यह साफ कह दिया है कि वह सरकार की तानाशाही से डरने वाले नहीं हैं। जहां पर भी हमें रोका जाएगा हम सब सड़कों पर जाम लगा देंगे। हमारे पास महीनों का राशन और सामान है।

इस मामले में दिल्ली महिला आयोग के अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने मोदी सरकार पर हमला बोला है।

उन्होंने महिला सुरक्षा के मुद्दे पर सरकार को घेरते हुए ट्वीट में लिखा है कि “अन्नदाता किसानों को दिल्ली आने से रोकना है। तो 4 राज्य की पुलिस को नाकों पर खड़ा करवा दिया! इसकी आधी शक्ति भी बहन बेटियों की सुरक्षा में लगाई जाए तो किसी की मजाल है जो बच्चियों को आंख भी उठाकर देखे?”

 

बताया जा रहा है कि दिल्ली की पुलिस ने किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए 12 कंपनी फोर्स बाहर से बुला लिया है।

नई दिल्ली डिस्ट्रिक्ट और आसपास करीब पच्चीस सौ पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। जिनमें पैरामिलिट्री फोर्स भी शामिल है। इसके साथ ही दिल्ली से सटे कई बॉर्डर्स भी सील कर दिए गए हैं।

इस वक़्त हरियाणा सीमा पर पंजाब के किसानों का भारी जमावड़ा है। जहाँ सरकार और पुलिस किसानों को रोकने में लगी है। वहीँ स्थानीय लोग किसानों की मदद के लिए सामने आ रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × 2 =