यूपी के सोनभद्र में हुए आदिवासियों के क़त्लेआम का मामला आज संसद में भी गरमाया। कांग्रेस सांसदों ने सदन के अंदर और बाहर इस मुद्दे को उठाया। इतना ही नहीं कांग्रेस सांसदों ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को सोनभद्र के पीड़ितों से मिलने से रोके जाने को लेकर यूपी की योगी सरकार के ख़िलाफ जमकर नारेबाज़ी की।

जानकारी के मुताबिक, दोपहर 12 बजे सदन की बैठक जैसे ही शुरु हुई कांग्रेस सांसदों ने सोनभद्र नरसंहार मामले को उठाते हुए बीजेपी सरकार के ख़िलाफ़ नारेबाजी शुरु कर दी। इस दौरान कांग्रेस सांसदों ने मांग की कि सोनभद्र नरसंहार मामले पर सदन में चर्चा कराई जाए।

यूपी पुलिस द्वारा सोनभद्र के पीड़ितों से मिलने जा रहीं प्रियंका गांधी को हिरासत में लिए जाने को लेकर भी राज्यसभा और लोकसभा के बाहर कांग्रेस सांसदों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने ‘तानाशाही बंद करो’ और ‘गरीबों के खिलाफ अत्याचार बंद करों’ जैसे नारे लगाए।

इस प्रदर्शन में राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अभिरंजन चौधरी, मुख्य सचेतक के सुरेश और गौरव गोगोई सहित लगभग कई सांसद मौजूद थे। प्रदर्शनकारी प्रियंका गांधी को हिरासत में लिए जाने को अवैध बता रहे थे और राज्य सरकार से इस पूरे प्रकरण पर जवाब की मांग कर रहे थे।

बता दें कि बुधवार को सोनभद्र के घोरावल गांव में ज़मीन पर कब्ज़े को लेकर भू-माफियाओं ने तीन महिलाओं समेत नौ आदिवासियों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। आदिवासियों का कसूर सिर्फ इतना था कि उन्होंने ज़मीन को खाली करने से इनकार कर दिया था, जिससे नाराज़ ग्राम प्रधान यज्ञ दत्त ने आदिवासियों पर गोली चलवा दी। जिसमें 9 लोगों की मौके पर मौत हो गई और तकरीबन दो दर्जन लोग बुरी तरह से घायल हुए थे।