उत्तर प्रदेश में भले ही बलात्कार, लूट-हत्या के मामले कम ना हो रहे हो। मगर योगी सरकार ने ऐसा फैसला लिया जिससे उनकी एक बार फिर आलोचना होना शुरू हो गई है। यूपी कैबिनेट ने फैसला लिया है कि उत्तर प्रदेश में होटल, रेस्टोरेन्ट, पब अब खुद की ताजी बीयर बना सकेंगे।

ये जानकारी खुद योगी सरकार के मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने दी। उन्होंने कहा अब होटल, रेस्टोरेन्ट, पब में रोजाना 600 लीटर बीयर बनाई जा सकती है। इसके लिए सरकार ने प्रदेश में लघु माइक्रो ग्रेवी की स्थापना हेतु नियमवाली 1961 में छठवां संशोधन किया गया है।

ताजी बीयर के तहत यह संशोधन किया गया है जिसमे होटल में माइक्रो ग्रेवी लगाया गया है जिसमे बियर का उत्पादन होता है, देश के 7 राज्यों में ऐसी व्यवस्था है।

लापता AN-32 विमान का मलबा मिला, क्या एलियन के बहाने सरकार की नाकामी छुपा रही थी मीडिया?

यूपी के होटल, रेस्टोरेन्ट, पब में पहले लाइसेंस फीस 25 हजार थी जिसे बढ़ाकर ढाई लाख की गई है। लाइसेंस नवीनी करण के लिये 2 लाख रुपये लगेंगे। प्रतिदिन 600 लीटर 2.1 लाख लीटर प्रतिवर्ष से अधिक बीयर नहीं बनेगी।

योगी सरकार के इस फैसले पर आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने तंज कसा। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा- मासूम बच्चियों का बलात्कार रोकने के लिये योगी बाबा की कैबिनेट ने उठाया क्रांतिकारी क़दम अब होटल और पब वाले बना सकेंगे ताज़ी बीयर।