केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर गैर भाजपा शासित राज्यों में विधायकों की खरीद-फरोख्त कर सरकार गिराने के आरोप कई बार लग चुके हैं।

बीते साल राजस्थान में भी भाजपा ने कांग्रेस नेताओं को खरीद गहलोत सरकार गिराने की कोशिश की थी। लेकिन इसमें भाजपा कामयाब नहीं हो पाई।

विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में कर्नाटक के पूर्व मंत्री और भाजपा नेता श्रीमंत पाटिल ने एक बड़ा बयान दे डाला है। जिसने सियासी गलियारों में हलचल मचा दी है।

भाजपा के पूर्व मंत्री श्रीमंत पाटिल ने शनिवार को एक कार्यक्रम के दौरान कहा है कि कांग्रेस छोड़ने के लिए उन्हें भाजपा द्वारा पैसों की पेशकश दी गई थी।

हालांकि उन्होंने यह भी कहा है कि मैं बिना पैसे लिए भाजपा में शामिल हुआ हूं।

उन्होंने कहा, पार्टी द्वारा मुझसे यह पूछा गया था कि मुझे कांग्रेस छोड़ने के लिए कितना पैसा चाहिए। मैंने भाजपा से पैसे की जगह उनसे मंत्री पद की डिमांड की थी।

भाजपा सरकार द्वारा अभी तक मुझे मंत्री नहीं बनाया गया। लेकिन अगले कैबिनेट विस्तार में मुझे मंत्री पद देने का वादा किया गया है।

इस मामले में आम आदमी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि भाजपा की मंडी में खुलेआम लगी विधायकों की बोली। बोली लगाने वाला कौन है? सारी भाजपा मौन है। सुनिये कर्नाटक के MLA श्रीमंत पाटिल कह रहे हैं “हमसे पूछा गया कितना रुपया चाहिये?”

दरअसल विपक्षी दलों द्वारा कई बार ये आरोप लगाए गए हैं कि देश में होने वाले चुनावों के दौरान नेताओं की खरीद-फरोख्त के लिए भाजपा पानी की तरह पैसा बहाती है।

बता दें, कई नेता कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं। जिनमें से कुछ एक को हाल ही में हुए मोदी कैबिनेट के विस्तार में मंत्री पद भी दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 + thirteen =