• 6.9K
    Shares

रक्षा मंत्रालय की एक रिपोर्ट से इस बात का ख़ुलासा हुआ है कि राफेल डील में प्रधानमंत्री कार्यालय के सीधे हस्तक्षेप की वजह से देश को 30,000 हज़ार करोड़ की चपत लगी है।

इस ख़ुलासे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्ष के निशाने पर आ गए हैं। आम आदमी पार्टी के राज्य सभा सांसद संजय सिंह ने सीबीआई को पत्र लिखकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की अपील की है।

संजय सिंह ने कथित राफेल विमान घोटाले का आरोप लगाते हुए पीएम मोदी को आड़े हाथों लिया है। इसी को लेकर आप नेता संजय ने दिल्ली के नार्थ एवेन्यू थाना पहुँच कर एफआईआर की चिट्ठी थाने में सौंपी।

एक समाचार चैनल से बात करते हुए संजय सिंह ने कहा कि, “मैं पहले दिन से बोल रहा हूँ की राफेल सौदे में घोटाला हुआ है। ये कहने के जुर्म में अनिल अम्बानी ने मुझपर 5,000 करोड़ का मानहानि केस किया, लेकिन आज मेरी कही गई एक-एक बात सच साबित हो रही है। इसीलिए मैंने आज मोदी के खिलाफ थाने में एफआईआर दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है।”

संजय सिंह ने राफेल मामले में अंग्रेजी अख़बार द हिन्दू के माध्यम के आए नए दस्तावेज़ को आधार बनाकर सीबीआई से जाँच कराने की मांग की है। उन्होंने कहा कि, “राफेल घोटाले को लेकर सीवीसी, सीबीआई और कैग के समक्ष पिछले साल उनके द्वारा पेश किए गए तथ्यों की एक बार फिर से मुहर लग गई है।”

संजय के मुताबिक राफेल मामले में केंद्रीय सतर्कता निदेशालय ने पिछले साल उन्हीं की शिकायत पर तत्कालीन रक्षा सचिव को इस मामले पर संज्ञान लेने के लिए कहा गया था।

उन्होंने आगे कहा, “तत्कालीन रक्षा सचिव की जिस नोटिंग की बात आज सामने आ रही है, उन्हें मेने शिकायती पत्र पर सीवीसी ने कारवाई करने को कहा था।”

उनका कहना है कि इससे राफेल में घोटाले की पुष्टि होती है और पीएम मोदी पर एफआईआर होनी चाहिए। उधर, ‘आप’ मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द ने ट्वीट करते हुए पीएम मोदी और सीबीआई पर निशाना साधा है।

केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए लिखा है, “राफेल पर हुए आज खुलासे के बाद स्वतंत्र सीबीआई ने जैसे मेरे और कोलकाता पुलिस कमिश्नर के कार्यालय पर छापेमारी की वैसे ही सीबीआई प्रधानमंत्री कार्यालय पर छापेमारी करे और राफेल से सम्बंधित सभी फाइलों को जब्त कर मोदी को गिरफ्तार करे।”