देश में आई कोरोना महामारी के दौरान अब कोरोना संक्रमण के साथ-साथ नई बीमारियां भी उभर रही हैं।

भारत में बीते 15 दिनों के मुकाबले अब संक्रमण के मामलों में हल्की गिरावट देखी जा रही है। लेकिन कई राज्यों में मौत का सिलसिला अभी भी थम नहीं रहा है।

इसी बीच देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर पर अंकुश लगाने की कोशिश में राज्यों के मुख्यमंत्रियों और शीर्ष अधिकारियों के साथ बातचीत की है।

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में कोरोना संक्रमण से मरने वाले लोगों के प्रति भावुक भी हो गए। उन्होंने मृतकों को श्रद्धांजलि अर्पित की और इसके साथ ही पीड़ित परिवारों के प्रति सांत्वना व्यक्त की।

सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यह वीडियो काफी वायरल हो रही है। इस वीडियो को शेयर करते हुए पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने मोदी सरकार और पीएम मोदी पर निशाना साधा है।

उन्होंने लिखा है कि “मोदी जी, जब लोग मर रहे थे तब आप बंगाल में ‘दीदी ओ दीदी’ कर रहे थे, भीड़ देखकर उत्साहित हो रहे थे, अब आपकी इस झूठी संवेदना और नक़ली आंसुओं को देश अच्छी तरह समझता है। काठ की हांडी बार बार नहीं चढ़ती।”

 

पूर्व आईएएस अफसर के इस ट्वीट से आशय है कि जब मोदी सरकार को कोरोना संक्रमण रोकने के लिए ठोस कदम उठाने चाहिए थे। तब उन्होंने अपना चुनावी फायदा देखा। तो अब मृतकों को श्रद्धांजलि देने से क्या फायदा ?

गौरतलब है कि भारत की विपक्षी पार्टियों ने देश में फैली कोरोना महामारी के बीच विधानसभा चुनाव करवाने को लेकर चुनाव आयोग और मोदी सरकार को जमकर घेर चुकी है।

विपक्षी पार्टियों कई बार भाजपा पर कोरोना संक्रमण फैलाने के आरोप लगाए हैं। दरअसल जब देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के चलते मामले बढ़ रहे थे।

तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह विधानसभा चुनाव प्रचार में व्यस्त थे। बता दें, विधानसभा चुनाव के बाद कई राज्यों में कोरोना बम फूटा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − 3 =