कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ वर्चुअल बैठक में राहुल गांधी ने एक सनसनीखेज बयान दे दिया है। राहुल गांधी ने स्वीकार किया है कि उनके दल में आज भी कई ऐसे नेता हैं जो आरएसएस की विचारधारा में यकीन रखते हैं।

कांग्रेस के सोशल मीडिया विभाग की वर्चुअल बैठक को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि राजनीति में बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो कांग्रेस में नहीं हैं लेकिन निडर हैं।

ऐसे लोगों को बुलाओ, कांग्रेस के अंदर लाओ और जो लोग कांग्रेस में हैं लेकिन डर रहे हैं तो वैसे लोगों को बाहर निकालो।

उनसे कह दो चलो जाओ भैया.. जाओ, आरएसएस के हो जाओ. जाओ भागो, वहां मजे लो. नहीं चाहिए हमें.. हमें जरुरत नहीं तुम्हारी.. हमें निडर लोगों की जरुरत है. ये हमारी आइडियोलाॅजी है।

राहुल गांधी ने साफ तौर पर कहा कि नहीं चाहिए हमें कांग्रेस में ऐसे लोग, जिन्हें संघ की विचारधारा में विश्वास है।

राहुल ने दो टूक शब्दों में कहा कि ऐसे लोगों को बाहर का रास्ता दिखाना चाहिए।

राहुल गांधी ने कांग्रेस के सोशल मीडिया के सिपाहियों से आह्वान किया कि आप लोग डरे नहीं लड़ें।

वो जमाना गया जब देश की जनता भारतीय जनता पार्टी के फेक न्यूज पर यकीन करती थी। आज लोगों को यह मालूम है कि भाजपा जो न्यूज फैला रही है, वो फेक है।

राहुल गांधी ने यहां तक कहा कि इन लोगों से डरिए नहीं बल्कि इन पर हंसिए. अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते हैं कि कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए यूपी की योगी सरकार ने बहुत अच्छा काम किया है तो इन पर हंसिए।

अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते हैं कि भारत के किसी भी हिस्से में चीन नहीं घुसा है तो इन पर हंसिए.

वहीं कांग्रेस छोड़कर भाजपा में गए केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया पर प्रहार करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि सिंधिया जी को डर था कि उनका महला छीन जाएगा, इसलिए वो भाजपा में चले गए।

माना जा रहा है कि राहुल गांधी द्वारा यह स्वीकार किए जाने के बाद कि कांग्रेस में बहुत सारे लोग आज भी आरएसएस की विचारधारा के हैं, देश में एक नई बहस छिड़ सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × three =