बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर भारतीय जनता पार्टी द्वारा जमकर राजनीति की जा रही है। दरअसल इस साल बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

इस मामले में बिहार सरकार का आक्रामक रुख देखने को मिल रहा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुखर होकर सुशांत को इंसाफ दिलाने का दावा कर रहे हैं। यह इसलिए हो रहा है कि क्यूंकि सुशांत बिहार से ताल्लुक रखते हैं।

इसी बीच खबर सामने आई है कि बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस ले ली है।

राजनीतिक सूत्रों की मानी जाए तो बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे राजनीति में एंट्री मार इस बार वह बिहार विधानसभा चुनाव भी लड़ सकते हैं।

भाजपा बिहार विधानसभा चुनाव में सुशांत मामले में राजनीति भुना कर जनता के वोट हासिल करना चाहती है। इसी के चलते हाल ही बिहार भाजपा के सांस्कृतिक प्रकोष्ठ की तरफ से एक पोस्टर भी जारी किया गया था।

जिसमें सुशांत सिंह राजपूत की तस्वीर के साथ स्लोगन लिखा है-न भूलेंगे, न भूलने देंगे। जिससे साफ जाहिर होता है कि भाजपा चुनाव में सुशांत के समर्थकों और बिहार के लोगों की भावनाओं के साथ खेलने की कोशिश कर रही है।

सुशांत मामले पर चल रही राजनीति पर शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने भाजपा पर निशाना साधा है।

उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “राजनीति करनी है तो जम के करो, चुनाव लड़ना है तो साहस और सत्य पर लड़ो। पर इस ‘गुप्त’ तरीक़े से, किसी की दुर्भाग्यपूर्ण मौत से अपने कैंपेन की शुरुआत करना वो बहुत दुखदाई भी है और दुर्भाग्यपूर्ण भी। भगवान आपको सफलता से पहले सदबुद्धि दे, यही मनोकामना है।”

सुशांत मामले में भाजपा समर्थक अभिनेत्री कंगना रनौत भी जमकर राजनीति कर रही हैं। वहीँ विपक्षी दलों द्वारा नीतीश सरकार को बिहार के हालात और वहां की कानून व्यवस्था को लेकर घेरा जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fifteen − 11 =