उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी में हार का डर साफ दिखना शुरू हो गया है। इसी वजह से अब भाजपा ने एक बार फिर से यूपी चुनाव में हिंदू-मुस्लिम एंगल जोड़ना शुरु कर दिया है।

हाल ही में उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने मथुरा को लेकर ऐसा बयान दिया है कि सियासी गलियारों में हंगामा खड़ा हो गया है।

इसके बाद उन्होंने राज्य के मुसलमानों को लेकर भी आपत्तिजनक बयानबाजी की है।

ऐसे में साफ़ नजर आ रहा है कि भाजपा एक बार फिर से हिंदू-मुस्लिम ऐंगल को चुनावी मुद्दे में जोड़ रही है।

इस मामले में देश के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने सोशल मीडिया के जरिये भाजपा पर हमला बोला है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि “आज से 29 साल पहले, भाजपा, आरएसएस, विहिप और बजरंग दल के अनुचरों के नेतृत्व में एक दंगाई भीड़ ने 500 साल पुरानी एक मस्जिद को नष्ट कर दिया था।

यह सुप्रीम कोर्ट के उपक्रमों के उल्लंघन में किया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने इसे एक आपराधिक साजिश बताया और उनके खिलाफ मुकदमा चलाने का आदेश दिया।

वे अब मथुरा और वाराणसी में इसी तरह के कृत्यों का आह्वान करते हैं!”

 

गौरतलब है कि साल 1992 में 6 दिसंबर के दिन अयोध्या में स्थित बाबरी मस्जिद को ढहाया गया था।

बाबरी मस्जिद को गिराए जाने की 29वीं बरसी पर आज अयोध्या, काशी सहित मथुरा में अलर्ट किया गया है।

दरअसल हिंदूवादी संगठनों द्वारा मथुरा में मौजूद शाही ईदगाह मस्जिद में जलाभिषेक कर वहां से पदयात्रा निकालने के लिए घोषणा की गई थी। जिसके बाद से ही शहर में तनाव का माहौल बना हुआ है।

इस मामले में अयोध्या के SSP शैलेश पांडे ने कहा कि 6 दिसंबर को कड़ी सुरक्षा के इंतज़ाम किए गए है।

सुरक्षा व्यवस्था में सिविल पुलिस, पीएससी और कई एजेंसियां लगी हैं। इसके साथ सभी धर्मों के लोगों से अपील की गई है कि परंपरा से हटकर कोई भी आयोजन न करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 + eleven =