• 7.7K
    Shares

लोग सरकारी लापरवाही की वजह से मर रहे हैं। लेकिन BJP नेता लोगों की मौत पर संवेदनहीनता के अंत तक जाकर बयान दे रहे हैं। इस संवेदनहीनता की बानगी दिखी मुंबई के सीएसटी रेलवे स्टेशन के पास एक फुटओवर ब्रिज के गिर जाने के बाद। यहाँ कल रात फुटओवर ब्रिज गिरने से 6 लोगों की मौत हो गई जबकि 30 से ज्यादा लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। इन लोगों की हालात नाज़ुक बताई जा रही है।

6 लोग मर गए 30 लोग अस्पताल में अपनी जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं। कई परिवार इस हादसे के बाद हमेशा के लिए तबाह हो गए। लेकिन इस हादसे पर महाराष्ट्र की बीजेपी प्रवक्ता संजू वर्मा ने ऐसा बयान दिया कि उसके अंदर कि उसके अंदर की सरी कुंठा निकलकर बाहर आ गई।

एक समाचार चैनल पर डिबेट के दौरान BJP प्रवक्ता संजू वर्मा ने मुंबई फुटओवर ब्रिज गिरने की घटना को ‘प्राकृतिक आपदा’ बता दिया। प्रवक्ता ने कहा कि, “लोगों को मालूम था कि फुटओवर ब्रिज पर काम चल रहा है इसके बावजूद लोग ब्रिज पर गए और यह हादसा हो गया। यह एक प्राकृतिक आपदा है।”

ब्रिज हादसे के लिए जनता जिम्मेदार : BJP नेता, संजय बोले- ऐसे लोगों को पार्टी से निकाले भाजपा

सभी को पता है कि महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार है। देवेन्द्र फडणवीस वहां के मुख्यमंत्री हैं। मुंबई के ब्रिज हादसे की जिम्मेदारी बीजेपी सरकार की बनती है। की ये हादसा क्यों और कैसे हो गया? लेकिन अपनी सरकार की गलती मानने के बजाय बीजेपी प्रवक्ता संजू वर्मा इस हादसे को प्राकृतिक आपदा बता रही हैं। वो भी तब जब 6 लोगों की मौत हो गई हो और 30 लोग गंभीर रूप से घायल हों!

बता दें कि इसे पहले भी मुंबई में एल्फिंस्टन ब्रिज एका एक टूटकर गिर गया था। तब भी महाराष्ट्र में देवेन्द्र फडणवीस की सरकार थी। इसमें कई लोगों की जानें गई थीं। इस हादसे पर बोलते हुए संजू वर्मा ने कहा कि, “इससे पहले हुई एल्फिंस्टन ब्रिज की भी घटना एक ऐसा ही उदहारण है।”

बीजेपी प्रवक्ता के इस असंवेदनशील बयान पर जमकर खिंचाई कर लताड़ लगा रहे हैं। निखिल वाघले नाम के यूजर ने लिखा है कि, “ये सिर्फ एक ब्रिज की बात नहीं है। पिछले एक साल में ये तीसरा ब्रिज गिर है। ये मुंबई की खस्ताहाल इन्स्फ्रास्ट्रक्चर को बताता है। मुंबई वाले सुरक्षित नहीं हैं।”