जिन किसानों से बड़े-बड़े वादे करके उनका वोट लेकर भाजपा ने सरकार बनाई अब उन्हें ही कार्टून के जरिए धमकी दे रही है कि लखनऊ आए तो मार खाओगे। कार्टून के जरिए कहा जा रहा है अन्नदाता का बक्कल उतार दिया जाएगा।

आपको बता दें कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर डटे किसानों ने अब लखनऊ को घेरने का ऐलान किया है।

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) नेता राकेश टिकैत ने लखनऊ में आंदोलन करने घोषणा की। इस पर उत्तर प्रदेश बीजेपी ने कार्टून के जरिए राकेश टिकैत को चेतावनी दी है।

कार्टून में दाईं तरफ राकेश टिकैत जैसे दिखने वाले एक व्यक्ति को दिखाया गया है जिसके कंधे पर ‘किसान आंदोलन’ का भार है।

दूसरी ओर एक ‘बाहुबली’ नाम का शख्स है, जो कह रहा है, ‘सुना लखनऊ जा रहे तम…किमे पंगा न लिए भाई..योगी बैठ्या है बक्कर तार दिया करे और पोस्टर भी लगवा दिया करे।’

इस ट्वीट से सोशल मीडिया पर यूजर्स का गुस्सा उफान मारने लगा है कुछ लोगों ने कहा है कि कार्टून में जैसा दिखाया है, बीजेपी की किसानों के प्रति वही मानसिकता है, तो किसी ने इसे किसानों का अपमान बताया है।

वहीं पत्रकार विनोद कापड़ी ने ट्विटर पर बीजेपी के ऑफिशियल टि्वटर अकाउंट के कार्टून को रिट्वीट करते हुए लिखा- भारत की सत्तारूढ़ पार्टी अब खुलेआम धमकाने पर उतर आई है। शर्मनाक

यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने कहा-
भाजपा का किसानों के नाम संदेश, बाल पकड़कर घसीटा जाएगा?

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने लिखा- “शर्मनाक! जिन किसानों का उगाया अन्न देश खाता है उन्ही किसानों को भाजपा बाल पकड़ कर घसीटने की धमकी दे रही है।

ये किसानों के साथ-साथ लोकतंत्र की तौहीन है।
भाजपाई किसानों के बीच गांव में वोट मांगने जायेगे किसान तैयार बैठे है इन्ही का बाल पकड़कर सत्ता से बाहर करने के लिए।”

बता दें कि अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में किसान संगठन अब यूपी में अपना आंदोलन तेज करना चाहते हैं।

इसी हफ्ते भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा था कि हमने जिस तरह से दिल्ली की सीमाओं को घेर रखा है, वैसे ही हम यूपी की राजधानी की भी घेराव करेंगे। लखनऊ को भी दिल्ली बनाया जाएगा जिस तरह दिल्ली में चारों तरफ के रास्ते सील हैं, ऐसे ही सील होंगे। हम इसकी तैयारी करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × four =