मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन को लगभग एक साल पूरा होने वाला है। लेकिन अब तक यह मुद्दा सुलझ नहीं पा रहा है।

मोदी सरकार किसान संगठनों से बातचीत करने में कोई खास दिलचस्पी नहीं दिखा रही है। वहीँ किसानों ने भी साल 2024 तक किसान आंदोलन चलाने की बात कई बार कही है।

इसी बीच भाजपा नेता और मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक का बड़ा बयान सामने आया है।

मीडिया से बातचीत के दौरान किसानों के मुद्दे पर बोलते हुए उन्होंने कहा है कि अगर मोदी सरकार एमएसपी पर गारंटी कर दें तो यह मुद्दा हल हो जाएगा।

किसानों द्वारा एमएसपी की मांग की जा रही है। तो सरकार इसका हल क्यों नहीं निकाल रही है ? एमएसपी का मुद्दा आज का नहीं है।

किसानों के हालात तभी सुधर सकते हैं। जब एमएसपी की गारंटी दी जाए। अगर एमएसपी नहीं है। तो देश के किसान बर्बाद हो जाएंगे। एमएसपी के मुद्दे को छोड़कर किसान संगठन सरकार के साथ कोई समझौता भी नहीं करेंगे।

इस दौरान भाजपा नेता सत्यपाल मलिक ने यह भी कहा कि मैंने इस मुद्दे पर सरकार से कई बार झगड़ा भी किया है। मैंने उन्हें बताया है कि आप गलत रास्ते पर हैं इसे जल्द से जल्द सो जाएं।

अगर किसानों की मांगे नहीं मानी गई तो यह सरकार दोबारा सत्ता में नहीं आ पाएगी। उत्तर प्रदेश के कई जिलों में भारतीय जनता पार्टी के नेता गांव में भी नहीं जा सकते। लोगों के मन में भाजपा के प्रति इतनी नाराजगी है।

गौरतलब है कि अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में भाजपा नेता सत्यपाल मलिक द्वारा अपनी ही पार्टी को एक तरह की चेतावनी दी गई है कि अगर जल्द से जल्द किसानों के मुद्दे को सुलझाया नहीं गया।

तो अगले साल उत्तर प्रदेश में भाजपा का सत्ता हासिल कर पाना मुमकिन नहीं हो पाएगा।

हाल ही में लखीमपुर खीरी में किसानों के साथ हुई हिंसा मामले में भी लोगों के बीच भारतीय जनता पार्टी के लिए काफी आक्रोश देखने को मिल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

9 − five =