बुआ-बबुआ दोनों मिलकर जितने साल मुख्यमंत्री नहीं रहे, उससे कहीं ज्यादा समय मैं गुजरात का सीएम रहा हूं। मैंने अनेक चुनाव लड़े और लड़ाए हैं, लेकिन कभी अपनी जाति का सहारा नहीं लिया।

मैं पैदा भले ही अति पिछड़ी जाति में हुआ हूं, लेकिन मेरा लक्ष्य पूरे देश को दुनिया में अगड़ा बनाने का है। मैं नहीं चाहता कि आपकी संतान भी, आपकी तरह पिछड़ी हुई जिंदगी जीने के लिए मजबूर हो।

मैं नहीं चाहता कि आपकी संतानों को विरासत में पिछड़ापन मिले। मैं नहीं चाहता कि आपके बच्चों को विरासत में गरीबी मिले। पीढ़ी दर पीढ़ी चली आ रही इस दयनीय स्थिति को मुझे बदलना है। ये बयान है प्रधानमंत्री मोदी का जिन्होंने बसपा-सपा के अध्यक्षों पर ये कहते हुए निशाना साधा की उनकी जाति गरीबों की जाति है।

BJP को हारता देख RSS ने भी इनका साथ छोड़ दिया है इसलिए मोदी के पसीने छूट रहे हैं : मायावती

पीएम मोदी के इस बयान पर राजद सांसद और प्रवक्ता मनोज झा ने सोशल मीडिया पर लिखा, हे प्रभु! कनाडा वाले अक्षय कुमार आजकल आपका स्क्रिप्ट लिख रहें है क्या? सच तो ये है कि क्रोनी पूंजी की गोद में बैठकर झुनझुना बजाने वाले नेता गरीबी नहीं गरीबों को मिटाने की ही सोच सकते हैं। बाकी जय हिंद। 23 मई को मिलते हैं।