पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस ने बहुमत से जीत हासिल की है। इस बात का पार्टी में जश्न मनाया जा रहा है। लेकिन ममता बनर्जी नंदीग्राम सीट से शुभेंदु अधिकारी से हार गई है।

भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी से ममता बनर्जी लगभग 1900 वोटों से हारी है। हालांकि इससे पहले ममता बनर्जी 1200 वोटों से आगे चल रही थी।

नंदीग्राम विधानसभा सीट से आए नतीजों पर तृणमूल कांग्रेस ने दोबारा मतगणना की मांग की है। जिसके चलते पार्टी के कुछ नेता कोलकाता में चुनाव आयोग के अधिकारियों से मुलाकात भी कर चुके हैं।

टीएमसी नेताओं ने कहा है कि नंदीग्राम विधानसभा सीट से वोटों की काउंटिंग दुबारा की जाए।

इस मामले में अब ममता बनर्जी के बयान ने सियासी गलियारों में हलचल मचा दी है। ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में रिटर्निंग अफसर के व्हाट्सप्प संदेश पढ़कर सुनाया है।

जिसमें कहा है कि “यदि मैं पुनर्गणना का निर्देश दूंगा तो मेरी जान खतरे में पड़ जाएगी” दरअसल तृणमूल कांग्रेस की प्रचंड जीत के बाद ममता बनर्जी पार्टी के नेताओं के साथ जनता को संबोधित कर रही थी।

ममता बनर्जी ने कहा है कि 4 घंटे तक सर्वर डाउन ही रहा। पहले तो गवर्नर द्वारा मुझे जीत की बधाई भी दे दी गई थी। लेकिन इसके बाद अचानक से नतीजों में बड़ा परिवर्तन कर दिया गया।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम विधानसभा सीट इस बार सबसे हाई प्रोफाइल सीट मानी जा रही थी।

ममता बनर्जी ने नंदीग्राम सीट से हारने के बाद राज्य के लोगों को किसी भी तरह की हिंसा ना करने की अपील की है।

उन्होंने कहा है कि भाजपा आर केंद्रीय सुरक्षा बलों ने हमें बहुत प्रताड़ित किया है। लेकिन हमें ऐसे वक्त में भी शांति व्यवस्था बनाए रखने की जरूरत है। यह राज्य के लोगों की जिम्मेदारी है कि वह शांति स्थापित करने में सहयोग करें और किसी भी तरह की हिंसा ना करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − two =