लोकसभा चुनाव ख़त्म होते ही कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस की सरकार अब मुश्किल में नज़र आ रही है। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो कांग्रेस के 12 और जेडीएस के 3 विधायक स्पीकर से मिलने पहुंचे हैं। आशंका जताई जा रही है कि कांग्रेस-जेडीएस के 12 एमएलए इस्तीफा दे सकते हैं।

दरअसल पिछले दिनों ही कांग्रेस विधायक ने इस्तीफा दिया था। इसके बाद 12 और विधायकों ने इस्तीफा देने के फैसले ने कुमारस्वामी की सरकार के लिए और मुश्किलें खड़ी कर दी है। हैरान करने वाली बात ये है कि कर्नाटक के विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार सदन से गायब है।

 

इन विधायकों में 9 कांग्रेस के हैं, जबकि तीन विधायक जनता दल सेकुलर (जेडीएस) के हैं। शनिवार को इस्तीफा देने वाले विधायकों में रमेश जर्कीहोली, एच विश्वनाथ, प्रताप गौड़ा पाटिल भी शामिल हैं। इससे भी पहले ये कयास लगाया जा रहा था की कांग्रेस के कुछ विधायक बीजेपी के संपर्क में है, मगर बाद में कांग्रेस ने इन अटकलों को ख़ारिज कर दिया था।

कर्नाटक: विधायकों को 10 करोड़ का ऑफर दे रही है BJP, जनता के पैसों से जनमत खरीद रहे हैं मोदी-शाह

गौरतलब हो कि पिछले साल हुए कर्नाटक विधानसभा चुनाव में किसी भी राजनितिक दल को बहुमत हासिल नहीं हुआ था। कांग्रेस को चुनाव में 70 सीटें मिली थी वहीं जेडीएस ने 35 सीटें हासिल की थी। बीजेपी को रोकने के लिए कांग्रेस और जेडीएस ने मिलकर सरकार बनाई थी।

बता दें कि कर्नाटक की विधानसभा में कुल 224 सीटें जीती थी बीजेपी ने 105 सीटें जीती थी जबकि बहुमत के 108 सीटों का होना ज़रूरी है। ऐसे में अगर इस्तीफा देने वाले विधायक अगर बीजेपी में शामिल हो जाते है तो मुमकिन है की बीजेपी कर्नाटक में दुबारा सत्ता में आ जाये।