बीते साल लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद मोदी सरकार द्वारा जवाबदेही में चीनी मोबाइल एप्स को बैन कर दिया गया था।

इसके साथ देश की जनता ने भी कोरोना संक्रमण फैलाने और भारत की सीमा में घुसने के लिए चीन का जमकर विरोध भी किया था।

खासतौर पर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा यह अभियान चलाया गया कि चीनी सामान को बॉयकॉट किया जाए और भारत के लोग चीन के साथ कोई भी व्यापारिक संबंध ना रखें।

हाल ही में आईपीएल 2021 के लिए खिलाडियों की नीलामी हुई है। जिसके बाद से ही आईपीएल 2021 चर्चा में बन गया है। इस बार भी आईपीएल को चीनी कंपनी वीवो ने स्पांसर किया है।

इस मामले में मोदी सरकार पर कन्हैया कुमार ने निशाना साधा है। कन्हैया कुमार ने ट्वीट कर लिखा है कि “चीन भारत की सीमा पर लगातार घुसपैठ कर रहा है और चीन की कम्पनी वीवो को फिर से IPL की टाइटल स्पॉन्सरशिप दे दी गई है। मॉस्टरस्ट्रोक है ना ये भी??

बाक़ी गलवान घाटी में शहीद हुए देश के वीर जवानों की शहादत का बदला तो चौकीदार साहेब ने टिक टॉक बैन करके ले ही लिया था।”

आपको बता दें कि इंडियन प्रीमियर लीग के चेयरमैन बृजेश पटेल ने खुद इस बात की पुष्टि की है कि इस साल होने वाले आईपीएल में टाइटल स्पॉन्सर के तौर पर एक बार फिर Vivo की वापसी होने जा रही है।

यह बात बृजेश पटेल ने गुरुवार को चेन्नई में आईपीएल नीलामी के दौरान कही है।

दरअसल बीते साल आईपीएल का आयोजन यूएई में हुआ था। जिसका टाइटल स्पॉन्सर ड्रीम 11 था। चीन के विरोध के बीच आईपीएल ने एक बार फिर चीन की कंपनी को स्पांसर बनाया है। राष्ट्रवाद की दुहाई देने वाली भाजपा और बिकाऊ मीडिया ने चुप्पी साध रखी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × three =