केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार द्वारा किए गए 2 करोड़ रोजगार देने के वादे को अभी तक पूरा नहीं किया गया है। इसके विपरीत बीते साल से कोरोना महामारी के चलते देश में भयंकर बेरोजगारी जा चुकी है।

आलम यह है कि चपरासी की नौकरी के लिए ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट युवा आवेदन कर रहे हैं।

देश में बढ़ रही बेरोजगारी के मामले में मोदी सरकार विपक्षी दलों के साथ-साथ युवाओं के निशाने पर भी आ चुकी है।

इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह भी अक्सर विपक्षी दलों के निशाने पर बने रहते हैं। दरअसल जब से उन्हें बीसीसीआई का सचिव बनाया गया है। तब से जय शाह और बीसीसीआई को सवालों के कटघरे में खड़ा किया जा रहा है।

सीपीआई नेता कन्हैया कुमार ने भी इस पर चुटकी ली है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा है कि “युवाओं को ना रोज़गार ना फ़ैक्टरी, बस ख़ुद का बेटा क्रिकेट सेक्रेटरी।”

हाल ही में अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम का नाम सरदार पटेल से बदलकर अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर किया गया है। जिसके बाद वहां पर भारत और इंग्लैंड के बीच पहला इंटरनेशनल टेस्ट मैच खेला जा रहा है। इस मैच के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और बीसीसीआई के सचिव एक साथ नजर आए।

कल कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कल मोटेरा स्टेडियम का नाम बदले जाने को लेकर भाजपा पर तंज कसा था।

उन्होंने लिखा था कि सच कितनी खूबसूरती से सामने आता है। नरेंद्र मोदी स्टेडियम अडानी एंड, रिलायंस एंड, जय शाह की अध्यक्षता में!

गौरतलब है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने हाल ही में यह बयान दिया था कि भारत इस वक्त ”हम दो और हमारे दो” द्वारा चलाया जा रहा है। भाजपा सिर्फ देश के अमीर पूंजीपतियों का विकास कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 4 =