कोरोना महामारी के दौरान बढ़ी बेरोजगारी के बाद अब महंगाई की मार ने लोगों की मुश्किलें और बढ़ा दी है। देश में बढ़ रही पेट्रोल डीजल की कीमतों ने जनता की कमर तोड़ दी है। हर दिन पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफा किया जा रहा है।

पेट्रोल और डीजल की बढ़ रही कीमतों की वजह से महंगाई दर और भी बढ़ेगी। इस मामले में देश की विपक्षी पार्टियों द्वारा भी मोदी सरकार को घेरा जा रहा है।

दरअसल बीते 15 दिनों से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में हर दिन बढ़ोतरी की जा रही है। कई राज्यों में पेट्रोल की कीमत 100 रुपए प्रति लीटर हो चुकी है।

इसके साथ गैस सिलेंडर पर सब्सिडी भी खत्म कर दी गई है। जिससे लोगों को रोजमर्रा की जिंदगी में मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है।

इस मामले में पत्रकार रोहिणी सिंह ने मोदी सरकार पर तंज कसा है। रोहिणी सिंह ने ट्वीट किया है कि “पिछले 2 दिन से पेट्रोल-डीजल के दाम नहीं बढ़े थे, एक चिंता भक्तों को अंदर से खाए जा रही थी कि कहीं देश पीछे न रह जाए,

कहीं विकास कार्यों में किसी प्रकार की बाधा ना आ जाए, कहीं राष्ट्रसेवा का कोई मौका उनके हाथ से न चला जाए। आज पेट्रोल-डीज़ल 30-35 पैसे बढ़ गए, अब भक्त निश्चिंत हैं।”

वहीँ विपक्षी नेताओं ने भाजपा पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि क्या यही उनके अच्छे दिन हैं ? विकास के नाम पर भाजपा ने बेरोजगारी, गरीबी और महंगाई बढ़ाकर भुखमरी के कगार पर भेजने का काम किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विकास के नाम पर देश को पूंजीपतियों के हाथों बेच रहे हैं।

बताया जाता है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में राहत देने के लिए 4 राज्यों की सरकारों द्वारा वेट और अन्य टैक्स कम किया जा चुका है। लेकिन अभी मोदी सरकार ने ऐसा कोई कदम नहीं उठाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty + 20 =