गुजरात के राजकोट से बीजेपी विधायक अरविंद रैयाणी ने उस किचेन में थूक दिया जहां कोरोना लॉकडाउन से परेशान जरूरतमंदों का खाना बन रहा था। सोशल मीडिया पर रैयाणी की इस हरकत की तुलना जमातियों से करते हुए लोग मीडिया पर तंज़ कस रहे हैं। यूजर्स पूछ रहे हैं कि जमातियों पर थूकने का आरोप लगा कर उन्हें निशाना बनाने वाला मीडिया बीजेपी विधायक के थूकने पर ख़ामोश क्यों है।

पत्रकार उमाशंकर सिंह ने भी इस मामले को लेकर मीडिया पर ज़ोरदार कटाक्ष किया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी विधायक की जगह अगर ये हरकत जमातियों ने की होती तो चैनलों पर इसपर ज़ोरदार बहस हो रही होती।

उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “अरे ये तो ज़रूरतमंदों के लिए बन रहे खाना वाली किचन में थूक रहा है! ओह ठहरो। ये तब्लिगी होता तब तो राष्ट्रीय चैनलों पर बहस होती। ये तो बीजेपी MLA हैं। इनकी थूक तो गुलदस्तों के लिए प्रसाद है। मौक़ा मिले तो माथे पर तिलक बना लें! अबे कठपुतलियों इस थूक को लूप में लेकर नहीं चलाओगे?”

बीजेपी विधायक द्वारा किचेन में थूके जाने का वीडियो भी सामने आया है। इसी वीडियो को टीवी9 गुजराती ने दिखाया है, जिसे उमाशंकर सिंह ने शेयर किया है। वीडियो में देखा जा सकता है कि विधायक किस तरह से उस किचेन में थूक रहे हैं जहां जरूरतमंदों के लिए खाना बनता है। ये खाना उन लोगों में बांटा जाता है जिनके पास कोरोना लॉकडाउन के बाद खाने के लिए कुछ नहीं बचा।

इस हरकत को लेकर बीजेपी विधायक पर कार्रवाई के रूप में 500 रुपए का जुर्माना लगाया गया है। जिसे विधायक द्वारा भर दिया गया है। दिलचस्प बात तो ये है विधायक ने इस जुर्माने को खुद जाकर नहीं भरा बल्कि अधिकारी को अपने दफ़्तर बुलाकर जुर्माने की राशि दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 − two =