3 जून को लापता हुए भारतीय वायुसेना का AN-32 विमान के बारे में जानकारी मिल गई है। खुद भारतीय वायुसेना ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा है कि अरुणाचल प्रदेश में भारतीय वायुसेना के AN-32 विमान हादसे में सभी 13 लोगों की मृत्यु हो चुकी है।

इस पुष्टि के बाद मोदी सरकार के उन दावों की पोल खुल गई जिसमें सुरक्षा की बात कही जाती है।

इस मामले पर मध्यप्रदेश सरकार में खेल मंत्री जीतू पटवारी ने सोशल मीडिया पर दुःख ज़ाहिर किया है। उन्होंने लिखा- “शहादत” को देश की “आदत” बनाने वाली मोदी सरकार सैनिकों की जान की “कीमत” भूल गई है। वायुसेना के 13 जवानों की खबर नही, पुलवामा में 5 फिर शहीद हो गए। मोदी की नाकामियों ने सेना को ही “असुरक्षित”कर दिया है।

गौरतलब हो कि प्रधानमंत्री मोदी समेत तमाम बीजेपी के नेताओं ने ‘देश सुरक्षित हाथों में है’ का नारा दिया था। मगर जवान ना ही हवा में सुरक्षित है और ना ही ज़मीन पर। जवान बिना किसी जंग के शहीद हो रहे है।

AN-32 विमान हादसे में सभी 13 लोगों की मौत, क्या अब जी न्यूज़ शहीदों के परिवार से माफ़ी मांगेगा?

बता दें कि इससे पहले वायुसेना के हैलिकॉप्टर Mi-17 की मदद से लगातार इसकी खोज की गई और 8 दिन बाद यानि 11 जून को विमान का मलबा देखा गया था। विमान में 13 लोग सवार थे और वायुसेना ने इन सभी 13 लोगों की मौत की पुष्टि की है।