केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार के शासनकाल में भारत लगातार गरीब देशों में शामिल होता जा रहा है। बीते कुछ सालों से देश में भयंकर बेरोजगारी आने के कारण गरीबी और भुखमरी काफी बढ़ गई है।

इसी बीच ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2021 की एक रिपोर्ट सामने आई है। जिसके मुताबिक भारत इस साल और भी नीचे आ गया है।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स, दुनिया भर में भुखमरी की स्थिति को जानने के लिए बनाई जाने वाली रिपोर्ट है। जिसमें बताया गया है कि भारत में बढ़ रही भुखमरी की स्थिति चिंताजनक है।

क्योंकि भारत इस मामले में अपने पड़ोसी देशों पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल से भी पिछड़ चुका है।

भारत 116 देशों के ग्लोबल हंगर इंडेक्स में 101वें स्थान पर आया है। जबकि साल 2020 में भारत 94वें स्थान पर था।

जबकि पड़ोसी मुल्क नेपाल 76वें स्थान पर, बांग्लादेश भी 76वें स्थान पर, म्यांमार 71वें स्थान पर और पाकिस्तान 92वें स्थान पर है।

इसके साथ-साथ भारत का जीएचआई स्कोर भी नीचे आ गया है। जो कि साल 2000 में 38.8 था। 2012 और 2021 के बीच 28.8 – 27.5 के बीच रहा।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि किसी भी देश के जीएचआई स्कोर की गणना 4 संकेतको पर की जाती है।

जिनमें अल्पपोषण, कुपोषण, बच्चों की वृद्धि दर और बाल मृत्यु दर शामिल होते हैं। गौरतलब है कि जिस रफ्तार से भारत में महंगाई और बेरोजगारी बढ़ रही है।

उस हिसाब से जल्द ही ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत जल्द ही कई अन्य कई गरीब देशों को भी पीछे छोड़ देगा।

मोदी सरकार देश में बढ़ रही महंगाई और बेरोजगारी के मुद्दे पर विपक्षी दलों के निशाने पर बनी रहती है।

भारत में सरकार द्वारा लगातार पेट्रोल डीजल और गैस सिलेंडरों के दाम बढ़ाए जा रहे हैं। जिससे आम जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है।

बढ़ रही महंगाई लोगों को गरीबी और भुखमरी की ओर धकेलने का काम कर रही है। जिस पर नियंत्रण करने के लिए सरकार द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 + three =