• 204
    Shares

जल्द ही भारत के जल, थल और वायु सेना के कई पूर्व प्रमुखों को ‘देशद्रोही’ बताया जाएगा, इंतजार कीजिए…
दरअसल तीनों सेनाओं के 8 पूर्व प्रमुखों सहित 150 से अधिक पूर्व सैन्य अधिकारियों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को चिट्ठी लिख शिकायत की है।

क्या शिकायत की है?

तीनों सेनाओं के 8 पूर्व प्रमुखों समेत 150 से अधिक पूर्व सैन्य अधिकारियों ने राष्ट्रपति को सेना के राजनीतिकरण के ख़िलाफ़ शिकायत की है। उन्होंने लिखा है कि सत्ताधारी बीजेपी लगातार सर्जिकल स्ट्राइक… आदि जैसे सैन्य कार्रवाई श्रेय ले रही है और भारतीय सेना को ‘मोदी जी’ की सेना बता रही है। का

सैन्य अधिकारियों ने सेना के राजनीतिक इस्तेमाल पर रोक लागने की अपील की गई है। 11 अप्रैल को शिकायत की ये चिट्ठी सार्वजनिक हुई।

हालांकि राष्‍ट्रपति भवन ने ऐसा कोई भी पत्र मिलने से इनकार किया है। इतना ही नहीं चार सेवानिवृत्‍त सैन्‍य अधिकारियों ने कहा है ने भी इसे नकारा है। लेकिन ज्यादातर का कहना है कि उन्होंने इस पत्र के लिए सहमति दी थी और उन्हें अच्‍छी तरह पता था कि इसमें क्‍या लिखा था।

बता दें कि पिछले दिनों एक चुनाव सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाष्ट्र के लातूर में कहा था कि ‘अपने मत उन बहादुर लोगों को समर्पित करें, जिन्होंने पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमले को अंजाम दिया’