ramsevak delhi
Ram Sevak

आखिरकार नफरत फैलाने वालों के मंसूबों पर पानी फिरता दिख रहा है। दिल्ली हिंसा में 40 से ज्यादा जाने तो चली गई लेकिन भाईचारा अभी भी जिंदा है। ऐसी तस्वीरें और ख़बरें लगातार नफरत की आग में झुलसी नॉर्थ दिल्ली से आ रही हैं।

कहीं दलितों ने मुसलमानों को बचाने के लिए अपनी जिंदगी दांव पर लगा दी तो कहीं मुसलमानों ने मंदिरों की सुरक्षा करने के रात-दिन एक कर दिया।

आज एक ख़बर नॉर्थ दिल्ली के शिवविहार इलाके से आ रही है जहां रामसेवक ने बताया कि, जब दिल्ली हिंसा की आग में जल रही थी तब उनको पड़ोसी मुसलमानों ने उन्हें चैन से सोने के लिए बोला था।

शिवविहार निवासी रामसेवक बताते है कि, मैं 35 सालों से यहां रह रहा हूँ, आजतक मुझे कोई दिक्कत नहीं हुई। जबकि इस लाइन में सिर्फ दो घर हिंदुओं के हैं। मुझे कोई समस्या नहीं हुई। जब दिल्ली नफरत की आग में जल रही थी। जगह-जगह लोगों के मारे जाने की खबरें आ रही थी।

तब इलाके के मुसलमानों ने हमसे आकर कहा, अंकल जी आप सो जाओ, हम कोई नुकसान नहीं होने देंगे। इसी तरह चांदबाग व जाफराबाद से भी कई खबरें आई जिसमें मुसलमानों ने मंदिरों की सुरक्षा की। कोई उपद्रवी या आतंकी हमारे भाईचारे में आग ना लगा दे इसलिए हिंदू-मुसलमान रातभर जागते रहे।

यह असल तस्वीर है हिंदुस्तान की जिसको आग लगाकर राख कर देना चाहते हैं ये नफरती। आपको बता दें कि, एक भाजपा नेता के भड़काऊ बयान ने अबतक 40 जाने ले ली हैं। फिर भी अबतक उसपर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। ये विफलता कानून की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here