भारत और चीन के बीच लद्दाख में चल रहे विवाद पर रक्षा मंत्रालय ने एक डॉक्यूमेंट जारी किया है। जिसमें यह बताया गया है कि लद्दाख के कई इलाकों में मई महीने में चीनी सेना ने भारतीय सीमा में घुसपैठ की थी।

गौरतलब है कि मई में चीन ने पूर्वी लद्दाख सीमा के अंदर घुसपैठ की थी और दोनों देशों की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प भी हुई थी। जिसमें भारत सेना के तीन 20 सैनिक शहीद हुए थे।

रक्षा मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर जारी किए गए इस डॉक्यूमेंट में कहा है कि 5 मई से लद्दाख की गलवान घाटी में चीन की गतिविधियां बढ़ी थी। चीनी सेना ने PP-15 कुगरांग नाला, गोगरा यानी PP 17 A और पैंगोंग लेक के नॉर्दर्न बैंक पर 17-18 मई को घुसपैठ की थी।

रक्षा मंत्रालय के डॉक्यूमेंट में कहा गया है कि भारत और चीन के बीच ये विवाद लंबा चल सकता है। दोनों देश के बीच विवाद को खत्म करने के लिए दोनो देशो के कोर कमांडर के बीच 5 बार बातचीत हो चुकी है। हालांकि अब एलएसी पर तनाव तो कम है लेकिन हालात में किसी तरह का बदलाव नहीं है।

इस मामले में कांग्रेस नेता सुप्रिया श्रीनेत ने ट्विटर पर टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर को शेयर करते हुए लिखा है कि रक्षा मंत्रालय के दस्तावेज कहते हैं कि चीन ने घुसपैठ की है, फिर देश के प्रधानमंत्री झूठ क्यों बोल रहे हैं वह सच से क्यों भाग रहे हैं ?

इस मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विटर पर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए सवाल उठाया है कि पीएम मोदी झूठ क्यों बोल रहे हैं।

दरअसल भारत और चीनी सैनिकों के बीच चल रहे विवाद पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह बात कही थी कि भारत की सीमा में चीनी सैनिकों ने घुसपैठ नहीं की है।

इससे पहले भी कांग्रेस ने लद्दाख में दोनों देशों के बीच चल रहे विवाद को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला था। कांग्रेस का कहना है कि मोदी सरकार ने लद्दाख में चीनी सेना की घुसपैठ पर देश को पूरी जानकारी नहीं दी है और देश को अंधेरे में रखा जा रहा है।

अपडेट: इंडिया टुडे और एबीपी न्यूज़ समेत तमाम मीडिया के मुताबिक, रक्षा मंत्रालय ने कुछ घंटे पहले इस डॉक्यूमेंट को वेबसाइट से हटा लिया है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × two =