बिहार के चुनावी मौसम में नेताओं के भाषणों और झूठे वादों से अलग प्याज ने आम जनता को रुलाना शुरू कर दिया है।

बीते कुछ दिनों में प्याज की कीमतों में 2 गुना बढ़ोतरी हो चुकी है। बिहार चुनाव में विपक्षी दलों द्वारा बढ़ रही महंगाई को मुद्दा बनाया जा रहा है।

गरीबों के लिए यह महंगाई की मार ने सियासी गलियारों में चर्चा शुरू कर दी है। खासतौर पर प्याज की बढ़ रही कीमतों ने चुनाव में नीतीश सरकार के लिए मुसीबत खड़ी कर दी है।

विपक्षी दलों का कहना है कि नीतीश सरकार अगर चाहे तो महंगाई कम कर सकती है।

जहां पहले गरीब और मध्यमवर्गीय परिवार में 100 रूपये की कीमत में पूरी सब्जी बन जाती थी। वही अब 100 रूपये किलो सिर्फ प्याज मिल रहे हैं।

नीतीश सरकार को चाहिए कि वह प्याज को कोल्ड स्टोरेज में रखकर कालाबाजारी ना करें। बल्कि गरीबों के लिए प्याज की कीमतों को कम करें।

वहीं अब वकील दीपिका सिंह राजावत ने बढ़ रही महंगाई पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट कर मोदी सरकार की चुटकी ली है। दीपिका सिंह राजावत ने ट्वीट कर लिखा है कि “प्याज इतना महंगा हो गया है कि पकौड़े का रोजगार भी मुश्किल है अब बेरोज़गार कह रहा था।”

आपको बता दें कि राजद नेता तेजस्वी यादव ने प्याज की कीमतों को लेकर भाजपा पर कटाक्ष किया था।

उन्होंने कहा था कि महंगाई पहले डायन थी अब भौजाई बन गई है। वही राजद अध्यक्ष लालू यादव ने भी महंगाई को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेरा है।

गौरतलब है कि कोरोना काल करोड़ों की संख्या में लोग बेरोज़गार हुए हैं। वहीँ कोरोना काल में महंगाई भी बढ़ती जा रही है। ऐसे में गरीब और मध्यम वर्गीय लोगों का जीना मुहाल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four + 18 =