फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत अक्सर अपने विवादित बयानों के लिए चर्चा में बनी रहती है। इसी बीच कंगना रनौत को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान पदमश्री अवार्ड से सम्मानित किया गया है।

दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कंगना रनौत को पदमश्री अवार्ड से नवाजा है।

जिसके बाद कंगना रनौत एक बार फिर से सोशल मीडिया यूजर्स और विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई है।

दरअसल फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत को पदमश्री अवार्ड दिए जाने के मामले में विपक्षी दलों द्वारा मोदी सरकार पर निशाना साधा जा रहा है।

विपक्षी नेता और सोशल मीडिया यूजर्स इस बात से हैरान है कि आखिरकार मोदी सरकार द्वारा कंगना रनौत को पदमश्री अवार्ड से सम्मानित क्यों किया गया है।

आखिर उन्होंने किस क्षेत्र में ऐसा सर्वोच्च काम किया जो वह इस सम्मान के लायक बनी।

जबकि फिल्म अभिनेता सोनू सूद ने कोरोना महामारी के दौरान मानवता की मिसाल पेश की है। लोग सोनू सूद को असल हीरो के तौर पर देखते हैं।

इस मुद्दे पर कांग्रेस नेता डॉ उदित राज ने भी कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा है कि

“लोग हैरान हैं कि पदम श्री सोनू सूद को मिलना चाहिए था। लेकिन मिला कंगना रनौत को। किस दुनिया में हो ? यहां काम पर नहीं बल्कि झूठ और नफरत फैलाने पर मिलता है।

इसके अलावा एडिशनल एडवोकेट जनरल ऑफ छत्तीसगढ़ अशोक बसोया ने इस मामले में सवाल खड़े करते हुए पूछा है कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह सवाल करना चाहता हूं कि फिल्म अभिनेता सोनू सूद को पदम श्री क्यों नहीं दिया गया।

आपको बता दें कि फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत को 8 नवंबर को पदमश्री अवार्ड से सम्मानित किए जाने के बाद उन्होंने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से एक वीडियो शेयर किया है।

जिसमें उन्होंने कहा है कि जिन्होंने कभी उन्हें पूछा था कि सब क्यों करती हूं पंगे क्यों लेती हो? यह तुम्हारा काम नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve + three =