• 725
    Shares

राज्यसभा में 10% सवर्ण आरक्षण पर राज्यसभा में बिल पर बहस जारी है। कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने सवाल उठाए।

उन्होंने कहा कि बिल को अगर लाना ही था तो पहले लाते, चुनाव के पहले इस बिल को लाने के पीछे मोदी सरकार की नियत ठीक नहीं, पहले रोज़गार पैदा करो अर्थव्यवस्था सुधारो फिर आरक्षण की बात करो।

दरअसल राज्यसभा में सरकार ने आर्थिक रूप से पिछड़े सामान्य वर्ग के लोगों दस फीसदी आरक्षण देने का बिल पेश कर दिया है। अब इस पर बहस की बारी है।

इस दौरान कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने कहा कि आरक्षण तो दे दिया लेकिन नई नौकरियां तो बन नही रहीं तो इससे क्या फायदा होगा। यह लोगों को लालच देने जैसा है।

दलित-पिछड़ों के आरक्षण को जातिवादी कहने वाली ‘गोदी मीडिया’ मोदी के आरक्षण को मास्टर स्ट्रोक बता रही है : हार्दिक

कांग्रेस ने नेता कहा कि पहले रोज़गार पैदा करो अर्थव्यवस्था सुधारो फिर आरक्षण की बात करो। कांग्रेस सांसद ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव होने वाले हैं इसलिए यह बिल लाया जा रहा है।

बता दें कि लोकसभा में केंद्रीय सामाजिक न्याय और आधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने विधेयक पेश करते हुए कहा था कि पूरे विचार-विमर्श के बाद यह कदम उठाया गया है।

अमित शाह को शिवसेना की धमकी, कहा- हमें धमकी न दें अमित शाह, नहीं तो BJP को महाराष्ट्र में ही दफ़न कर देंगे

हम देर से लाए, लेकिन अच्छी नीयत से लाए। इसलिए आशंका करने की जरूरत नहीं है। आरक्षण विधेयक पर घंटों तक चली बहस के बाद लगभग सभी पार्टियों ने इसका समर्थन किया था। इस बिल के पक्ष में 323 वोट पड़े थे जबकि विपक्ष में महज 3 सदस्यों ने वोट डाला था।