भाजपा शासित त्रिपुरा में अल्पसंख्यक समुदाय पर हिंसा की खबरें सामने आई है। खबर के मुताबिक, कई मुस्लिम व्यापारियों की दुकानों को जला दिया गया है। इसके साथ ही कई मस्जिदों पर भी हमला किया गया है।

बताया जाता है कि यह हिंसा हिंदूवादी संगठन विश्व हिंदू परिषद की एक रैली के बाद हुई है।

दरअसल बांग्लादेश में हुई दुर्गा पूजा के दौरान हिंसा के विरोध में 26 अक्टूबर को विश्व हिंदू परिषद द्वारा एक रैली निकाली गई थी।

इस दौरान कुछ मुस्लिम व्यापारियों के घरों और दुकानों में तोड़फोड़ कर उनमें आग लगा दी गई। इसके साथ ही इलाके में स्थित मस्जिद में भी तोड़फोड़ की गई है।

इस मामले में भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद ने भाजपा सरकार पर हमला बोला है।

उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “त्रिपुरा में जिस तरह से मुस्लिम समाज को निशाना बनाकर साम्प्रदायिक उन्माद फैलाया जा रहा है, वह स्पष्ट तौर पर राज्य पोषित हिंसा है।

BJP देश को नफरत की आग में झोंक रही है ताकि आगामी चुनावों में ध्रुवीकरण करके अपनी सत्ता बचा सकें। यह शर्मनाक है। पीड़ितों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए।”

हिंसा मामले में स्थानीय पुलिस ने बताया है जी विश्व हिंदू परिषद की रैली में करीब 3500 कार्यकर्ता शामिल थे।

हालांकि अभी तक इस मामले में कोई भी गिरफ्तारी नहीं हुई है। जबकि इस हिंसा के बाद इलाके में तनावपूर्ण माहौल बनने के चलते धारा 144 लागू कर दी गई है।

राज्य के कई लोगों का मानना है कि 26 अक्टूबर को विश्व हिंदू परिषद की रैली के बाद राज्य के कई इलाकों में हिंसक घटनाएं हो रही हैं। खास तौर पर राज्य के मुसलमानों को निशाना बनाया जा रहा है।

बताया जाता है कि बीते एक हफ्ते में त्रिपुरा में अब तक इस तरह की 21 घटनाएं घटी हैं।

जिनमें से 15 मामले राज्य के अलग-अलग मस्जिदों में तोड़फोड़ किए जाने के हैं। जबकि दूरदराज के इलाकों में 3 मस्जिदों को पूरी तरह से बर्बाद किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one + seven =