• 838
    Shares

BJP सांसदों से जनता इतनी खफा है, कि सारे इंतेज़ाम करवाने के बावजूद उनकी रैलियों में भीड़ नहीं आ रही है। पंडाल में रखी कुर्सियां तक नहीं भर पा रही तो इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि बीजेपी की जमीन पर क्या हकीकत है।

आज़मगढ़ के लालगंज संसदीय क्षेत्र से BJP की सांसद नीलम सोनकर को जनता के गुस्से का भारी सामना करना पड़ा रहा है।

सांसद नीलम सोनकर की रैली में कुर्सियां खाली रह गई तो वो रोने लगीं। सभास्थल में भारी मात्र में कुर्सियां खाली और जनता की गैरमौजूदिगी की वजह से सांसद नीलम सोनकर को रोना आ गया। सोशल मीडिया में वायरल हुए वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है कि सांसद रो रही हैं।

नीलम सोनकर की सभा में खाली कुर्सियां बता रही हैं कि उन्होंने पांच साल तक जनता के लिए कोई काम नहीं किया। वो अपने क्षेत्र में लगता है 2014 के बाद अब दुबारा 2019 में आ रही हैं, इसीलिए जनता उनको पहचानने से इनकार कर रही है! बता दें कि भीड़ जुटाने के लिए गाड़ी और नाश्ते का भी इंतज़ाम किया गया था।

रैली में कुर्सी खाली रहना सिर्फ नीलम सोनकर की बात नहीं है ये हाल लगभग देश में कुछ-एक BJP सांसदों को छोड़कर सभी का यही है। पिछले दिनों वाराणसी में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की सभा में भी कुछ ऐसा ही हाल देखने को मिला था। इस सभा में जनता भारी मात्र में नदारद थी। कुल मिलकर जो थोड़ी बहुत जनता दिखाई दे रही है वो पीएम मोदी की रैलियों में है। इसीलिए बीजेपी नेता पीएम मोदी की एक रैली अपने क्षेत्र में चाहते हैं।