टोक्यो में चल रहे ओलंपिक में भारत के खिलाड़ियों ने देश का नाम रोशन किया है। देश में भारत के कई खिलाड़ियों की जीत पर जश्न मनाया जा रहा है।

वहीँ टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम के सेमीफाइनल की जीत के लिए देशभर में दुआएं मांगी जा रही थी।

लेकिन जब टीम को हार का सामना करना पड़ा। तो हरिद्वार में महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी वंदना कटारिया के हरिद्वार में रोशनाबाद स्थित घर के बाहर लोगों ने पटाखे फोड़े। इसके साथ ही वंदना कटारिया और उनके परिवार पर जातिगत टिप्पणियां भी की गई।

जानकारी के मुताबिक, वंदना कटारिया और उनके परिवार के बारे में जातिगत टिप्पणियां करने वाले लोगों का कहना था कि कई सारे दलित खिलाड़ियों की वजह से महिला हॉकी टीम को हार मिली है।

इस मामले में भीम आर्मी के संस्थापक और युवा नेता चंद्रशेखर आजाद ने उत्तराखंड सरकार पर निशाना साधा है।

उन्होंने कहा है कि देश की बेटी वंदना कटारिया ने ओलंपिक में वह करके दिखाया। जो आज तक कभी नहीं हुआ। उनकी हैट्रिक की वजह से भारतीय हॉकी टीम मेडल के इतने करीब पहुंची।

लेकिन हरिद्वार में उनके घर पर जातिवादियो ने कपड़े उतार कर भारत की हार का जश्न मनाया और वंदना को जातिवादी गालियां भी दी। भारत की हार पर पटाखे फोड़ जश्न मनाने वाले देशद्रोहियों के खिलाफ उत्तराखंड सरकार को राष्ट्रद्रोह और SC/ST एक्ट तहत मुकदमा दर्ज करना चाहिए।

इस मामले में वंदना कटारिया के भाई शेखर ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम की हार से हम सब काफी दुखी हुए थे।

लेकिन हमें इस बात पर गर्व है कि महिला टीम ने लड़ते-लड़ते हार का सामना किया। जब मैच खत्म हुआ तो थोड़ी ही देर बाद हमारे घर के बाहर पटाखों की आवाज आने लगी।

जब बाहर जाकर देखा तो गांव के ही उच्च जाति के दो युवक नाच रहे थे। आरोपियों ने पटाखे जला कर नाचना शुरू कर दिया और जातिगत टिप्पणियां की। उन लोगों का कहना था कि दलितों को खेल से दूर रखना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × one =