assam caa
Assam CAA

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) संशोधित नागरिकता कानून (CAA) को समझाने के लिए तमाम तरह के अभियान चला रही है, लेकिन इसके बावजूद जनता का आक्रोश इसको लेकर कम नहीं हो रहा। इसके चलते असम में लगातार बीजेपी नेताओं को जनता के कड़े विरोध का सामना करना पड़ रहा है।

बुधवार को एक बार फिर CAA का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को उनके गृह ज़िला डिब्रूगढ़ के मोहनबरी में काले झंडे दिखाए। जानकारी के मुताबिक, ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (AASU) के कार्यकर्ताओं ने सोनोवाल के सामने काले झंडे उस वक्त लहराए, जब वह डिब्रूगढ़ जिले में भोगली / माघ बिहू मनाने के लिए चबुआ के पास अपने पैतृक घर आए थे।

सब चंगा सी नहीं! PM मोदी ने एक महीने में दूसरी बार रद्द किया असम दौरा, ये CAA विरोध का डर है?

ये पहली बार नहीं है जब अपने गृह ज़िले में सीएम को विरोध का सामना करना पड़ा हो। इससे पहले तो उन्हें AASU के कार्यकर्ताओं ने इस तरह घेर लिया था कि उन्हें डिब्रूगढ़ से निकलने के लिए चॉपर का इस्तेमाल करना पड़ा था।

सोनोवाल को नए साल के पहले दिन भी AASU कार्यकर्ताओं ने घेर लिया था। तब मुख्यमंत्री एक धार्मिक समारोह में भाग लेने के लिए बारपेटा जिले के सरथेबारी गए थे, जब उनके काफिला को एक बार नहीं, बल्कि दो बार CAA का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने रोक दिया था।

मोदीजी, CM सोनोवाल कह रहे हैं कि विदेशी को असम में बसने नहीं देंगे फिर क्या गुजरात में बसाएँगे?

इससे पहले AASU के सदस्यों ने नलबाड़ी में सीएम के खिलाफ प्रदर्शन किया था। तब उनपर पुलिस ने लाठियां भी बरसाई थीं। एक AASU सदस्य ने बताया कि पुलिस के इस हमले में वह गंभीर रुप से घायल हो गया था। जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती होना पड़ा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three + ten =