देवेंद्र फडणवीस के नाटकीय ढंग से 80 घंटे के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनने पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े का दावा है कि, ‘महाराष्ट्र में बीजेपी ने फडणवीस को 40,000 करोड़ रुपये का फंड बचाने के लिए मुख्यमंत्री बनाकर बीजेपी ने ड्रामा किया।’

अनंत हेगड़े ने कहा कि, “आप सभी जानते हैं कि महाराष्ट्र में हमारा आदमी (फडणवीस) 80 घंटे के लिए मुख्यमंत्री बना और उसके बाद इस्तीफा दे दिया। उन्होंने यह नाटक क्यों किया? हमें नहीं पता कि हमारे पास बहुमत नहीं था और फिर वह मुख्यमंत्री बन गए। यह वह सवाल है जो हर कोई पूछता है।”

हेगड़े ने आगे कहा कि, “सीएम के पास करीब 40 हजार करोड़ की केंद्र की राशि थी। अगर कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना सत्ता में आते तो वे 40 हजार करोड़ का दुरुपयोग करते। यही कारण है कि केंद्र सरकार के इस पैसे को वकास इ लिए इस्तमाल में नहीं लाया जा सके, इसके लिए ड्रामा किया गया।”

अनंत हेगड़े ने आगे खुलासा करते हुए कहा, “बहुत पहले से बीजेपी की यह योजना थी। इसीलिए यह तय किया गया कि एक नाटक होना चाहिए और इसी के तहत फडणवीस ने सीएम पद की शपथ ली। शपथ लेने के 15 घंटे के अंदर फडणवीस ने सभी 40 हजार करोड़ रुपयों को उस जगह पहुंचा दिया जहां से वो आए थे। इस तरह फडणवीस ने सारा पैसा वापस केंद्र सरकार को देकर बचा लिया।” हालाँकि देवेंद्र फडणवीस ने इस दावे को नकारा है।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में पहले से तय था कि कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना की सरकार बनेगी और उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री होंगे। लेकिन बीजेपी से लेकर राज्यपाल बीएस कोशियारी ने नाटकीय घटनाक्रम करते हुए सभी नियमों और कानून को तोड़कर बीजेपी ने सरकार बनवा डाली।

महाराष्ट्र के सीएम के तौर पर देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री और अजित पवार ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली। लेकिन बहुमत नहीं होने की वजह से फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। फिर सवाल उठता है कि बिना बहुमत के फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद की शपथ क्यों ली

[adinserter name="Block 5"] [adinserter block="4"]