Dilip Ghosh
Dilip Ghosh
  • 9.4K
    Shares

अबतक श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 9 मजदूरों की मौत हो चुकी है। बता दें कि इन मजदूरों की मौत कोरोना से नहीं हुई है बल्कि सरकार और रेलवे की नाकामियों की वजह से हुई है। आजतक इस तरह की ट्रेनों में घटनाएं नहीं हुई थी, लेकिन अब 9 लोगों की मौत से बीजेपी के नेता पलड़ा झाड़ने लगे हैं। मजदूरों के प्रति असंवेदनशील हो गए हैं।

पश्चिम बंगाल के बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने 9 श्रमिकों की मौत पर कहा कि, ” श्रमिक विशेष रेलगाड़ियों से घर लौटने वाले प्रवासियों की मौत ‘छोटी एवं छिटपुट’ घटनाएं हैं और इसके लिए श्रमिक विशेष रेलगाड़ियों से घर इसके लिए रेलवे को उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता।”

लाखों मजदूर ट्रेनों से अपने घर जा रहे हैं। रेलमंत्री और रेलवे की बदइंतजामी का आलम यह है कि देशभर में 40 ट्रेनें अपना रास्ता ही भटक गईं। ट्रेन को जाना था सूरत से सिवान तो ट्रेन पहुंच गई राउरकेला।

2 दिन में पहुंचने वाली ट्रेन 8 दिन में अपने गंतव्य स्थान तक पहुंची। ट्रेनों में यात्रा कर रहे लाखों मजदूर और उनके परिजन गर्मी, भूख-प्यास का सामना कर रहे हैं। इसकी वजह से रेलगाड़ियों में एक बच्चे सहित 9 श्रमिकों की मौत हो चुकी है।

दिलीप घोष भाजपा सांसद भी हैं वो मजदूरों की स्थिति को न संभाल पाने पर अपनी मोदी सरकार को बचाने में इतने असंवेदनशील हो गए कि श्रमिकों को की मौत उनको।छिटपुट घटना लगने लगी है।

घोष ने कहा कि, कुछ दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं हुई हैं। लेकिन आप इसके लिए रेलवे को उत्तरदायी नहीं ठहरा सकते हैं। वे प्रवासियों को घर पहुंचाने के लिए प्रयास कर रहे हैं। कुछ मौतें हुई हैं लेकिन ये छिटपुट घटनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here