रिपब्लिक टीवी पर चीख-चीख का राष्ट्रवाद और देशभक्ति के बड़े दावे करने वाले अर्नब गोस्वामी का असली चेहरा सबके सामने आ चुका है।

उनकी सार्वजनिक हुए व्हाट्सप्प चैट में पाया गया कि कथित फर्जी राष्ट्रवादी अर्णब गोस्वामी आतंकी हमले में मारे गए जवानों की शहीदी पर चैनल की टीआरपी बढ़ने पर खूब खुश हुए।

दरअसल टीआरपी स्कैम में मुंबई पुलिस द्वारा बार्क के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता, रोमिल रमगढ़िया और रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के सीईओ विकास खनचंदानी के ख़िलाफ़ 3600 पेजों की अतिरिक्त चार्जशीट दायर की गई है।

इसके साथ ही पार्थो दासगुप्ता ने मुंबई पुलिस को एक लिखित बयान भी दिया है। जिसमें उन्होंने दावा किया है कि रिपब्लिक टीवी की टीआरपी रेटिंग बढ़ाने के लिए चैनल के संस्थापक अर्नब गोस्वामी द्वारा उन्हें 3 साल में 40 लाख रूपये दिए गए।

इसके अलावा वेकेशन पर जाने के लिए 12 हज़ार अमेरिकी डॉलर दिए गए थे।

पार्थो दासगुप्ता ने मुंबई पुलिस को दिए गए लिखित बयान में बताया है कि वह अर्नब गोस्वामी को साल 2004 से जानते हैं। जब वह दोनों एक साथ टाइम्स नाउ न्यूज़ चैनल में काम किया करते थे।

पार्थो दासगुप्ता ने बताया कि साल 2013 में मैंने बार्क के सीईओ का पद ग्रहण किया। उस दौरान अर्नब गोस्वामी टाइम्स नाउ के लिए काम करते थे।

इसके बाद साल 2017 में अर्नब गोस्वामी ने टाइम्स नाउ छोड़कर अपना नया चैनल लांच किया। रिपब्लिक टीवी को लॉन्च करने से पहले भी अर्नब गोस्वामी ने मेरे साथ कई बार बातचीत की और हमने कई योजनाएं भी बनाई।

इस दौरान अर्नब गोस्वामी ने मुझे चैनल की टीआरपी रेटिंग बढ़ाने की बात भी कही थी। क्योंकि वह जानते थे कि टीआरपी सिस्टम के बारे में मुझे हर तरह की जानकारी है।

मैं अपनी टीम के साथ मिलकर टीआरपी रेटिंग के साथ छेड़छाड़ का काम करता था। जिससे कि अर्णब गोस्वामी के चैनल की टीआरपी रेटिंग बढ़े। उन्होंने दावा किया है कि यह काम साल 2017 से लेकर साल 2019 तक किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

6 + thirteen =