• 402
    Shares

नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) में पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने वाले गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता मिलेगी। बांग्लादेश ने इसपर कड़ी आपत्ति जताई है।

इसी वजह से गुरुवार को बांग्लादेश के विदेश मंत्री डॉ एके अब्दुल मोमेंन ने भारत दौरा रद्द कर दिया। विदेश मंत्री के बाद अब बांग्लादेश के गृहमंत्री अस्दुज्जमान खान ने भी भारत का दौरा रद्द कर दिया है।

बांग्लादेश के गृहमंत्री शुक्रवार को तीन दिवसीय दौरे पर भारत आने वाले थे। बताया जा रहा है कि पूर्वोत्तर कैब बिल के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं, इसीलिए उन्होंने सुरक्षा को देखते हुए दौरा रद्द किया है। लेकिन एक ही दिन में बांग्लादेश के विदेश मंत्री  के बाद गृहमंत्री का दौरा रद्द होने के बाद इसके बड़े राजनैतिक कारण हैं। बता दें कि बांग्लादेश से भारत के अच्छे संबंध रहे हैं।

बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने अपना दौरा रद्द करने के बाद दिए बयान में कहा कि, “दुनिया में कुछ ही ऐसे देश हैं, जहां बांग्लादेश जैसा अच्छा साम्प्रदायिक सौहार्द है। अगर वो (अमित शाह) बांग्लादेश में आकर कुछ महीने गुजारेंगे, तो उन्हें हमारे देश में शानदार साम्प्रदायिक सौहार्द दिखेगा।

डॉ एके अब्दुल मोमेंन के बयान से साफ़ समझा जा सकता है कि गृह मंत्री अमित शाह के संसद में दिए बयान पर बांग्लादेश खासा नाराज़ है। इससे दोनों देशों रिश्तों पर असर पड़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here