दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को देश के साथ-साथ विदेशों से भी समर्थन मिल रहा है। बीते दिनों सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों पर अगले आदेश तक रोक लगाने के आदेश दिए हैं।

किसानों और सरकार के बीच समस्या का समाधान निकालने के लिए एक कमेटी का गठन भी किया गया है। लेकिन किसानों ने इस कमेटी के समक्ष पेश होने से साफ इंकार कर दिया है।

अब खबर सामने आ रही है कि देश के समाजसेवी अन्ना हजारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है।

अन्ना हजारे ने इस पत्र में एक बार फिर से किसान आंदोलन का समर्थन किया है। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में अन्ना हजारे ने रामलीला मैदान में अनशन करने की बात कही है।

अन्ना हजारे ने ऐलान किया है कि वह जनवरी के महीने में अपने जीवन का आखिरी अनशन करेंगे। अनशन के लिए हमें दिल्ली का रामलीला मैदान चाहिए। इसलिए अन्ना हजारे ने अथॉरिटी को चार बार पत्र भी लिखा है। लेकिन अभी तक कोई जवाब नहीं आया है।

माना जा रहा है कि अन्ना हजारे द्वारा अनशन के ऐलान के बाद मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। जहां किसान आंदोलन जोरों शोरों से चल रहा है और सुप्रीम कोर्ट की बात मानने से इनकार कर दिया है।

वहीं अब अन्ना हजारे भी हैरान कर दिया है कि वह किसानों के समर्थन में अनशन पर बैठेंगे।

आपको बता दें कि अन्ना हजारे ने बीते साल दिसंबर में कहा था कि अगर मोदी सरकार ने जनवरी तक कृषि बिलों को लेकर कोई हल नहीं निकाला तो वह दिल्ली में आकर विरोध-प्रदर्शन करेंगे।

अन्ना हजारे ने कहा था कि वह किसानों के लिए बीते तीन साल से प्रदर्शन कर रहे हैं। लेकिन सरकार ने किसानों की समस्या का समाधान निकालने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

12 − six =